चाची को देख भतीजे का लंड मचलने लगा

हॉट चाची सेक्सी कहानी में पढ़ें कि मैं एक अमीर घर की बहू हूँ और सेक्स पसंद करती हूँ मेरे जेठ के बेटे के साथ मेरे दोस्तों जैसे सम्बन्ध थे हम खूब बातें करते थे मैं कविता सिंह, मेरी उम्र 38 साल है मैं ग्वालियर की रहने वाली हूं मैं एक पढ़ी लिखी और मॉडर्न सोच रखने वाली महिला हूं मैंने बायोलॉजी में मास्टर्स डिग्री की पढ़ाई की है और मैं कोचिंग सेंटर में बायोलॉजी पढ़ाती हूं।

मेरी काया का आकार 34B-28-36 और हाइट 5’4 है अपना फिगर मेंटेन रखने के लिए 28 साल की उम्र से मैं हर रोज जिम जाती हूं मेरे परिवार में कुल 8 लोग हैं मेरे पति उनके बड़े भैया-भाभी उनके दो बच्चे और छोटा भाई उनकी बीवी सब लोग एक साथ रहते हैं हम खानदानी अमीर लोग हैं गांव में हमारी 150 एकड़ जमीन ट्रांसपोर्ट कंपनी प्रॉपर्टी डीलिंग ऐसे अलग अलग कारोबार हैं।

मेरी जेठानी रेखा और देवरानी नीता दोनों सगी बहनें है यह हॉट चाची सेक्सी कहानी मेरी और मेरे भतीजे कार्तिक की है कार्तिक की उम्र 23 साल है वह 6’2 का हट्टे कट्टे बदन वाला पढ़ाई में बहुत होनहार और हमेशा अव्वल नंबर से पास होने वाला एक सुशील लड़का है अभी वह दिल्ली में सॉफ्टवेयर इंजिनियरिंग के फाइनल ईयर में है कार्तिक और मैं हमेशा से एक दूसरे के करीब रहे हैं हमारा रिश्ता बिल्कुल दोस्तों जैसा है एक दूसरे से ढेर सारी बातें करना हँसी मजाक करना हमारे बीच सामान्य है।

चाची को देख भतीजे का लंड मचलने लगा

नौकरानी की बाली उम्र मेरा लंड कड़क-Kamvali ki Chudai

ग्यारहवीं कक्षा में वह पढ़ने के लिए कोटा चला गया था हुआ यूं कि मेरी जेठानी के भाई की शादी 30 मार्च 2020 को जयपुर में होनी थी वे दोनों बहनें (रेखा और नीता) जेठजी और सोनू (मेरी भतीजी) को साथ लेकर 1 मार्च को ही अपने मायके जाने वाली थी उस समय कार्तिक JEE की कोचिंग के लिए कोटा में था JEE एग्जाम का यह उसका तीसरा अटेम्प्ट था उसे खाने पीने के लिए कोई परेशानी ना हो इसलिए उसकी मां उसके साथ रहती थी अब उसकी देखभाल के लिए उसके मां ने मुझे कोटा जाने के लिए कहा।

मैंने हां कह दी वहां पर मुझे तकरीबन 20-25 दिन रहना था इस हिसाब से मैंने अपने कपड़े पैक किए अब अगले दिन 2 मार्च को सुबह पीले रंग की साड़ी और लाल ब्लाउज एक हाथ में लाल चूड़ियां दूसरे में घड़ी कानों में झुमके गले में चैन पैरों मैं एक हाई हील की सैंडल पहन बाल खुले छोड़ मैं जाने के लिए तैयार थी तकरीबन 7 बजे अपनी कार से मैं ग्वालियर से निकली सफर लंबा था मैं 6-7 घंटे में कोटा पहुंच गई।

क्योंकि मैं कोटा में पहली बार आई थी तो मुझे वहां के बारे में कुछ जानकारी नहीं थी फ्लैट का पता पूछने के लिए मैंने कार्तिक को फोन किया तो उसने मुझे मोबाइल पे अपनी लाइव लोकेशन भेज दी मोबाइल में लोकेशन देखते हुए मैं बिल्डिंग में पहुंच गई वह नीचे गेट पर मेरी राह देख रहा था बीच बीच में हमारी फोन पर बात होती रहती थी लेकिन हम दोनों एक दूसरे को करीब तीन साल बाद मिल रहे थे जैसी ही मैं कार से बाहर आई हम एक दूसरे को देखते ही रह गए।

कार्तिक पूरी तरह से बदल गया था चेहरे पर दाढ़ी सिक्स पैक एब्स की वजह से वह बहुत ज्यादा हैंडसम लग रहा था उसने पढ़ाई के साथ साथ अपने शरीर का भी पूरी तरह ध्यान रखा था ना जाने क्यों मुझे उसके लिए कुछ अलग की आकर्षण हो रहा था और मैं उसे लगातार देखे जा रही थी वह बोला- हाय चाची कैसी हो हेलो बेटा मैं तो एकदम बढ़िया हूं तुम अपना बताओ मैं भी ठीक हूं चाची तुम तो पूरी तरह बदल गए लगता है तुम्हें कोटा का पानी कुछ ज्यादा ही सूट कर गया।

हाँ चाची कोटा मुझे पसंद आ गया है वह बोला- यह सब जाने दीजिए आपका सफर कैसा रहा ये बताइए सफर तो बहुत अच्छा था और हाँ आपको बिल्डिंग ढूंढने में कोई तकलीफ तो नहीं हुई ना शहर में नई होने की वजह से थोड़ा समय लगा और बताइए घर में सब कैसे हैं अरे अब क्या सारी बातें यहीं करेगा मुझे घर नहीं लेकर जाएगा माफ़ करना चाची बहुत दिन से आपको मिला नहीं और घर भी नहीं आया तो बातों बातों के चक्कर में भूल गया कि हम पार्किंग में हैं चल कोई बात नहीं।

कार्तिक ने गाड़ी में रखा सारा सामान बाहर निकालकर गाड़ी लॉक की अब हम लिफ्ट से उसके फ्लैट की तरफ जा रहे थे जो छठी मंजिल पर था फ्लैट के अंदर आकर मैंने उसे गले लगाया और प्यार से उसके गाल पर किस किया और फ्लैट देखने लगी वह एक फुल्ली फर्निश 2 BHK फ्लैट था वहां पर घर में लगने वाली हर एक चीज जैसे टीवी फ्रिज, वाशिंग मशीन ओवन, सोफा सेट डाइनिंग टेबल सब कुछ था 15-20 मिनट बातें करने के बाद उसने मेरा सारा सामान दूसरे कमरे में रखा और मुझे फ्रेश होने के लिए कहा।

मैं कमरे में जाकर अपना सामान लगाने लगी नहाकर मैं फ्रेश हुई और मेहंदी रंग का कुर्ता सफेद पजामा पहन हल्का सा मेकअप करके बाहर आई उस समय कार्तिक अपने कमरे में पढ़ाई कर रहा था मैं हम दोनों के लिए कॉफी लेकर कार्तिक के कमरे में गई दरवाजा बंद था मैंने नॉक किया तब उसने दरवाजा खोला मुझे अच्छे से देखा और अंदर आने को कहा मैं अंदर गई तो उसने मुझे बेड पर बैठने के लिए कहा और खुद भी मेरे पास बैठ गया बोला- मुझे कह रही हो कि मैं बदल गया हूं सच कहूं तो बदल तो आप गई हो।

अच्छा बेटा ऐसा क्या देख लिया जो मैं तुम्हें बदली बदली सी लग रही हूं पहले से ज्यादा खूबसूरत हो गई हो आप मैंने उसे थैंक यू कहा वह बोला- चाची शायद अगले दो तीन दिन में किचन का सारा जरूरी सामान खत्म हो जाएगा तो हमें आज ही मार्केट जाना होगा ठीक है हम 6 बजे चले जायेंगे उसने हां कहा मैंने किचन में जरूरी चीजों की लिस्ट बनाई फिर मैं लाल रंग का कट कुर्ता काला जीन्स पहनकर तैयार हुई और कार्तिक को आवाज लगाई।

वह अपने कमरे से बाहर आया मुझे ऊपर से नीचे तक ध्यान से देखते हुए बोला- चाची आप तो बहुत क्यूट लग रही हो शायद उसे क्यूट की जगह सेक्सी कहना था लेकिन डर के मारे नहीं कह पाया मैं उसके तरफ देख कर मुस्कुराई वह बोला- शाम के समय ट्रैफिक ज्यादा रहता है तो बाइक से जाना ही हमारे लिए ठीक होगा मैंने हां कर दी कोचिंग आने जाने के लिए हमने उसे एक स्पोर्ट्स बाइक दिलाई थी मैं लड़कों की तरह दोनों तरफ पैर कर अपने दोनों हाथ उसके कंधे पर रख कर बैठ गई।

ब्रेक लगने पर मेरे मम्मे उसकी पीठ को टच कर रहे थे मुझे थोड़ा अजीब लगने लगा लेकिन शायद वह इस बात का मज़ा ले रहा था 20 मिनट में हम मार्केट पहुंच गए सामान लिया और घर आ गए अभी 8 बज रहे थे हमने खाना खाया और मैं थोड़ी देर टीवी देखने लगी मैंने एक बात नोटिस कि ना तो हॉल में ए सी है ना दूसरे कमरे में तो मैं सोऊंगी कहाँ मुझे तो बिना ए सी के बिल्कुल नींद नहीं आती।

तभी कार्तिक बोला- चाची यहां सिर्फ एक ही कमरे में ए सी है तो आप वहां सो जाओ मैं हॉल में सो जाऊंगा अरे नहीं बेटा तुम इतनी गर्मी में यहां बिना ए सी के कैसे सो पाओगे और एक दो दिन की बात होती तो ठीक था लेकिन हमें और 25 दिन साथ रहना है इसलिए हम दोनों तुम्हारे की रूम में सोना होगा ठीक है चाची 10 बज रहे थे और मुझे नींद आ रही थी मुझे शुरु से सोते समय शॉर्ट्स और टी शर्ट पहन कर सोने आदत है।

मैंने गुलाबी रंग का शॉर्ट्स और काली टीशर्ट पहन ली और सोने के लिए कार्तिक के रूम में चली गई वह मुझे देखकर दंग रह गया और घूरने लगा मैंने पूछा- ऐसे क्या देख रहे थे पहली बार थोड़ी ना तुम मुझे इन कपड़ों में देख रहे हो कार्तिक- चाची बहुत दिनों बाद आपको इस रूप में देखकर अपने आप मेरी नज़र तुम्हारे ऊपर चली गई मैं बोली- कोई बात नहीं उसने बताया कि वह 12 बजे तक पढ़ाई करता है और सुबह 6 बजे उठता है।

तभी उसने कहा- आप ऊपर बेड पे सो जाइए मैं अपनी पढ़ाई खत्म कर नीचे सो जाऊंगा अरे शरमा मत भूल गया बचपन में तू मेरे साथ ही सोता था हम दोनों ही बेड पर सोएंगे दिन भर सफर करने की वजह से मुझे नींद आ रही थी वह अपने टेबल पर बैठ पढ़ाई कर रहा था मैं उसकी तरफ पीठ कर सो गई लेकिन मुझे ऐसा लगा कि वह मेरी तरफ़ देख रहा है यह पक्का करने के लिए मैंने करवट ली अब मेरा मुंह उसकी तरफ था मैंने बंद आंखों से उसकी तरफ देखा तो मेरा शक यकीन में बदल गया।

वह लगातार मुझे देखे जा रहा था मैंने उसे कुछ कहना ठीक नहीं समझा और मैं सो गई मैं समझ रही थी कि कार्तिक भी मेरे कामुक शरीर को तरफ आकर्षित हो रहा था रात को जब थोड़ी देर के लिए आंख खुली तो हम दोनों एक दूसरे के पास थे और कार्तिक का हाथ मेरे पेट के ऊपर था लेकिन वह गहरी नींद में था मेरे मन में अभी तक उसके लिए किसी भी प्रकार की भावना नहीं थी अगले दिन सुबह 6 बजे मेरी नींद खुली तब कार्तिक जिम जाने के लिए तैयार हो रहा था।

मैं ग्वालियर में हर रोज जिम जाती हूं यह बात कार्तिक को भी पता है तो उसने मुझे पूछा- चाची क्या आप अगले 25 दिन जिम से छुट्टी लेने वाली हैं ना बाबा तो चलिए फिर मेरे साथ मैं भी जिम जा रहा हूं ऐसे कैसे चलिए जिम की फॉर्मेलिटी कौन पूरी करेगा मैं हूं ना आप आने वाली हैं यह पता चलते ही मैंने आपका रजिस्ट्रेशन अपनी जिम में करवा दिया चलिए अब जल्दी से रेडी हो जाइए थैंक यू कार्तिक तुम्हें कितनी फिक्र है मेरी यह कहकर मैंने उसे कस के गले लगा लिया और गाल पर चूम लिया।

इसमें थैंक यू वाली क्या बात है जैसा आप मेरा ख्याल रखती हैं वैसे ही मैं भी आपका ख्याल रखूंगा मैंने उसे प्यार से देखा और अपने कपड़े चेंज करने के लिए चली गई काले रंग का ट्रैक सूट ऊपर एक जैकेट और सफेद रंग के स्पोर्ट्स शूज पहन कर मैं जाने के लिए तैयार हो गई कार्तिक मुझे उन कपड़ों में देखता ही रह गया देखे भी क्यों ना मेरी पैंट थी ही इतनी टाइट कि अच्छे अच्छों की नजर मेरे ऊपर टिक जाए फिर हम बाइक से जिम पहुंच गए क्योंकि अब मैं वर्क आउट करने वाली थी तो अंदर जाते ही मैंने अपना जैकेट उतार दिया।

चाची को देख भतीजे का लंड मचलने लगा

चाय तो बहाना है आंटी को चोदना है-Aunty Ki Chudai

अब मैं सिर्फ एक स्लीवलेस टॉप जो मेरे छाती के थोड़े ही नीचे था और अपने स्किन टाइट पैंट में थी काले कपड़ों में मेरी गोरी त्वचा कुछ ज्यादा ही निखर रही थी जिम के सभी लड़के मुझे ही देख रहे थे और कार्तिक भी मेरे लिए तो ये कपड़े सामान्य थे लेकिन कार्तिक मुझे पहली बार इस रूप में देख रहा था इस वजह से उसका बुरा हाल हो गया उसने मुझे अच्छी तरह से देखा और बोला- अरे वाह चाची आपने 35 की उम्र में भी अपने आप को बढ़िया मेनटेन रखा है।

मैंने उसे थैंक यू कहा और अपना वर्क आउट चालू किया कार्तिक वर्क आउट तो कर रहा था लेकिन उसका ध्यान पूरी तरह से मेरे ऊपर था 8:30 बजे घर आकर मैंने घर के काम किए और कार्तिक पढ़ाई करने के लिए अपने कमरे में चला गया 11 बजे मैंने उसे खाने के लिए बुलाया हमने खाना खाया और फिर वह पढ़ने के लिए चला गया अब अगले 3-4 दिन हमारी दिनचर्या यही थी इन दिनों उसकी हरकतों से मैं समझ गई कि वह भी मुझे पसंद करने लगा है मैं पिछले 6 दिन से चुदी नहीं थी तो मेरी चूत की आग बढ़ने लगी।

मैंने सोचा वैसे भी यहां कोई भी हमें नहीं पहचानता तो मजा लेने में कोई परेशानी नहीं होगी मैं अपनी ओर से कोई हरकत नहीं करना चाहती थी पर उसे उकसाने के लिए मैं जानबूझ कर घर मैं और भी ज्यादा भड़कीले कपड़े पहनने लगी एक दिन जिम से वापस आकर मैं नीले रंग की साड़ी और मैचिंग स्लीवलैस ब्लाउस पहने किचन में काम कर रही थी गर्मी की वजह से मैंने अपने बाल ऊपर बांध रखे थे और काम करते समय जैसे हर भारतीय नारी करती है वैसे साड़ी का पल्लू अपनी कमर पर लपेट लिया था।

मेरी पीठ पर सिर्फ एक इंच की ब्लाउस की पट्टी थी पीछे से मेरी नंगी पीठ और पतली कमर कामुक लग रही होगी कार्तिक किचन में आया शायद उसे मेरा ये रूप भा गया था वह मेरे पीछे खड़ा होकर मुझे देखते हुए पानी पी रहा था उसने अचानक पीछे से जैसे कोई छोटा बच्चा प्यार से अपनी मां को पकड़ता है वैसे मुझे पकड़ लिया और कहा- खाने में क्या बना रही हो मेरी प्यारी चाची लेकिन उसके मन की भावना छोटे बच्चे की नहीं बल्कि एक वासना से भरे मर्द की थी।

यह मैं तब समझ गई जब उसका लंड मेरी गांड में चुभने लगा मैं- तुम्हें आज कुछ ज्यादा ही प्यार आ रहा है अपनी चाची पर कार्तिक- इतनी प्यारी और सुंदर चाची हो तो प्यार क्यों ना आए यह कहकर उसने मुझे गाल पर चूम लिया हटो मुझे काम करने दो यह कहकर मैंने उसे अपने से अलग कर दिया वह मेरे पास खड़ा होकर मुझसे बातें करने लगा मैंने पूछा- कार्तिक तुमने अपनी चाची को तुम्हारी गर्लफ्रेंड के बारे में कुछ नहीं बताया ऐसा क्यों गर्लफ्रेंड होती तो बताता ना चाची।

चलो भी अब मुझसे क्या छुपाना सच्ची चाची मेरी कोई भी गर्लफ्रेंड नहीं है मुझे तो यकीन ही नहीं हो रहा कि तुम जैसे लड़के की कोई गर्लफ्रेंड नहीं है तुम्हें तो कोई भी लड़की अपना बॉयफ्रेंड बनाना चाहेगी हां चाची अभी भी मेरे लिए लड़कियों की लाइन लगी पड़ी है लेकिन मैं ही किसी को भाव नहीं देता ऐसा क्यों एक बात तो जब तक मेरा JEE क्लियर हो नहीं जाता मैं इन फालतू के चक्कर में नहीं पड़ना चाहता और दूसरी बात कि जैसी लड़की मुझे चाहिए वह अब तक मुझे नहीं मिली।

अच्छी बात है तुम अपनी पढ़ाई के बारे में इतना सोचते हो लेकिन तुम्हें कैसी लड़की पसंद है जो आज तक तुम्हें मिली नहीं सच कहूं चाची तो मुझे बिल्कुल आपके जैसी गर्लफ्रेंड मिल जाए तो मैं उसी से शादी कर लूं अच्छा बेटा क्या मैं तुम्हें इतनी पसंद हूं हां चाची आप तो बचपन से मेरी क्रश हो चुप हो जा नालायक कुछ भी बोल रहा है अपनी चाची को कोई ऐसा थोड़ी ना कहता है चाची आप हो ही इतनी खूबसूरत कि कोई भी आपके प्यार में पड़ जाए सच में चाचा बहुत खुशनसीब हैं जिन्हें आप जैसी बीवी मिली।

मैं उसके मुंह से अपनी इतनी तारीफ सुन शर्मा गई और उसे देखने लगी क्या सच में मैं तुम्हें इतनी पसंद हूं हां चाची मैं गर्म हो चुकी थी लेकिन अब भी अपनी ओर से कोई हरकत नहीं करना चाहती थी हमने खाना खाया और पूरा दिन सामान्य बीता उसी रात 10 बजे जब मैं उसके कमरे में सोने के लिए गई तब तक वह सो गया था मैं भी सो गई रात में तकरीबन 12 बजे मुझे अपने सीने पर कुछ हलचल महसूस हुई कार्तिक अपना हाथ धीरे धीरे मेरे सीने पर घुमा रहा था।

मैं सोने का नाटक कर बंद आंखों से उसे महसूस करने लगी मैं उसे आज रोकना नहीं चाहती थी अब उसे यकीन हो गया कि मैं सो रही हूं तो उसकी हिम्मत बढ़ गई उसने अपना हाथ मेरे टी शर्ट के अंदर डाल दिया और मेरे पेट को सहलाने लगा मैं गर्म हो रही थी इस वजह से मेरी साँसें तेज हो गई और उसे पता चल गया कि मैं सोने का नाटक कर रही हूं मैं उसका विरोध नहीं कर रही थी तो उसे हरी झंडी मिल गई वह बोला- मैं जानता हूं चाची आप सोने का नाटक कर रही हो तो क्यों ना आंखें खोलकर आप भी मजा कीजिए।

अब वह थोड़ा नीचे सरका और मेरे ओंठ पर अपने होंठ रखकर मुझे चूमने लगा मैं उसे अपनी चुदास नहीं दिखाना चाहती थी मैं बोली- रुक जाओ कार्तिक तुम जो कर रहे हो वह गलत है और उसे धक्का देकर अपने से अलग कर दिया और झूठा विरोध करने लगी लेकिन उसके सर पर तो मानो भूत सवार हो गया हो उसने मुझे अपने पास खींचा और फिर से चूमने लगा मेरा झूठा विरोध वासना की आग के सामने धीरे धीरे फीका पड़ने लगा उसने मुझे सीधा लिटा दिया और मेरे ऊपर चढ़ गया।

मैं सोते समय शॉर्ट्स और टीशर्ट के अंदर कुछ भी नहीं पहनती उसने अपने दोनों हाथ मेरे टीशर्ट के अंदर डाल दिए और मेरी नंगी पीठ पर अपने हाथ लगा दिए मैंने अपने बाल एक क्लिप की मदद से ऊपर बांध रखे थे उसने क्लिप निकाल कर मेरे बालों को खोल दिया वह मुझे चूमते हुए टी शर्ट के ऊपर से मेरे चूचे दबाने लगा और एक हाथ मेरे शॉर्ट्स के अंदर डाल कर मेरी चूत का नाप लेने लगा हम पिछले 30 मिनट से एक दूसरे के होठों का रसपान कर रहे थे।

वह अब नीचे आ गया मेरा टी शर्ट ऊपर कर मेरे पेट को चूमने लगा मैं एकदम तड़प रही थी और कामुक सिसकारियां ले रही थी उसने मेरी टी शर्ट उतार दी मेरे नंगे चूचे वह थोडी देर देखता ही रहा फिर उनपर टूट पड़ा उन्हें अपने मुंह में लेकर चूसने लगा जीभ से चाटने लगा और प्यार से उन्हें हल्के हल्के काटने लगा करीब 20 मिनट वह मेरे चूचों के साथ खेलता रहा मैं इस दौरान एक बार झड़ चुकी थी अभी रात का एक बज रहा था वह अब मेरी दोनों टांगों के बीच बैठकर शॉर्ट्स के ऊपर से मेरी चूत की खुशबू लेकर उसे चूमने लगा।

उसने मेरे शॉर्ट्स मेरे शरीर से अलग किए फिर उसने उठकर बत्ती जला दी तेज रोशनी में मेरा नंगा शरीर चमकने लगा वह मुझे देखता ही रह गया और बोला- कसम से चाची जिंदगी में आज तक कभी इतनी खूबसूरत औरत नहीं देखी चाचा बहुत लकी हैं कि उन्हें आपके जैसी बीवी मिली मैंने शर्म के मारे अपने आंखें बंद कर रखी थी वह पागलों की तरह मेरे शरीर को चूम रहा था मैं तड़प उठी मैं चाहती थी कि उसका लंड जल्द से जल्द मेरी चूत के अंदर हो।

लेकिन वह मुझे और तड़पाना चाहता था इसलिए वह मेरी जांघों पर किस करने लगा उसकी इन हरकतों की वजह से मैं कुछ ज्यादा ही उत्तेजित हो गई थी और अपना सर इधर उधर पटकने लगी उसने अपना मुंह मेरी चूत पर रखा और उसे चूम लिया तब उसने मेरी टांगें घुटनों से मोड़ कर फैला दी और चूत चाटने लगा उत्तेजना की वजह से मैं कामुक सिसकारियां भरने लगी और अपने हाथों से उसके बाल पकड़ कर उसका सिर चूत की तरफ दबाने लगी।

15 मिनट तक वह मेरी चूत चाटने में लगा रहा और तब मैं उसके मुंह में झड़ गई मैं बोली- बस अब और रहा नहीं जाता कार्तिक जल्दी से अपना हथियार मेरे अंदर डाल दो और मेरी प्यास बुझा दो उसने अपने कपड़े उतार दिए उसका बड़ा लंड मेरे सामने था मेरा मन कर रहा था कि इसे मुंह में लेकर खेलती रहूं लेकिन इस वक्त मुंह से ज्यादा चूत की प्यास मिटाना जरूरी था उसने और थोड़ी देर मुझे चूमा फिर सीधा लिटा कर मेरी कमर के नीचे दो तकिए लगा दिए जिससे मेरी चूत उभर गई।

बहुत दिनों के बाद इतने बड़े लंड से चुदने जा रही थी तो दर्द होना निश्चित था पर जितना ज्यादा दर्द उतना ज्यादा मजा यह मुझे मालूम था कार्तिक थोड़ा धीरे डालना मुझे इतने बड़े हथियार लेने की आदत नहीं है तुम्हारे चाचा का तो इससे बहुत छोटा है आप चिंता मत कीजिए चाची आपको किसी भी प्रकार की तकलीफ ना हो यह मेरी जिम्मेदारी है इतना कहकर उसने अपना लंड मेरी चूत पर टिका दिया और एक जोरदार धक्का दिया जिससे उसके लंड का सुपारा अन्दर चला गया।

मुझे थोड़ा दर्द हुआ उसने अपने होंठ मेरे होंठों पर रख दिए पूरा लंड बाहर निकाला और फिर एक जोरदार धक्के से आधा लंड अंदर डाल दिया जवान चाची दर्द के मारे मेरी चीख उठी पर मेरी आवाज निकल कर उसके मुंह में ही दब गई थोड़ी देर के लिए वह वैसे ही बिना हिले रहा तब उसने धीरे धीरे मेरी चुदाई करना चालू किया लंड ने अपने लिए जगह बना ली और आसानी से अंदर बाहर करने लगा उसने धक्कों की गति बढ़ा दी और जोर जोर से चोदने लगा मेरी दर्द भरी चीखें अब आनंद में बदल गई।

मैं बेशर्मों की तरह उसे गालियां दे रही थी- हां चोद साले अच्छे से चोद अपनी चाची को हां साली रण्डी कितने दिनों से इस पल का इंतजार कर रहा था मैं अब नहीं छोडूंगा तुझे देख आने वाले दिनों में तेरा क्या हाल करता हूं उसके मुंह से अपने लिए गालियां सुनकर मुझे अच्छा लगने लगा वह लगातार मुझे चोद रहा था लेकिन उसका लंड अब तक खड़ा था अब मैंने उसे सीधा लेटने के लिए कहा और चुदाई की कमान मैंने संभाली।

चाची को देख भतीजे का लंड मचलने लगा

ट्यूशन टीचर की चूत में लंड का वार-Teacher Sex Story

मैंने उसके ऊपर चढ़ कर लंड अपने चूत पर सेट किया मेरी चूत चीरता हुआ वह लंड ज्यादा अंदर तक चला गया मैं उछल उछल कर चुदाई का मज़ा ले रही थी कुछ देर चोदने के उसका माल आने वाला था तो वह बोला- चाची मैं आने वाला हूं कहाँ लोगी इसे अंदर ही डाल दे मेरे राजा मैं तो न जाने कितनी बार झड़ चुकी हूं दस बारह तेज धक्कों के साथ उसने माल मेरे जिस्म के अंदर डाल दिया अलग अलग पोजीशन में हमारी पहली चुदाई सुबह पांच बजे तक चली।

उसने मुझे पूरी रात में तीन बार चोदा मैं उसका स्टैमिना देख दंग रह गई आज तक किसी ने मुझे इतनी देर तक नहीं चोदा था उस कमरे का कोई कोना नहीं बचा जहाँ कार्तिक ने मेरी चुदाई ना की हो रात भर चुदाई कर हम थक गए और नंगे ही एक दूसरे से लिपटकर सो गए अगले सात दिन हम कोटा में किसी कपल की तरह रहे खूब घूमे, शॉपिंग की और चुदाई की तो बात ही मत करो वह दिन में कम से कम तीन बार मुझे चोदता था।

मेरे प्यारे दोस्तों आपको यह हॉट चाची सेक्सी कहानी कैसी लग रही है कमेंट्स और मेल में बताएं

By tharki

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *