कमसिन मुस्लिम लड़की की चुदाई का मजा

नमस्ते दोस्तो मेरा नाम अब्दुल्ला है, और मैं आज अपनी जिंदगी की एक सच्ची घटना ले कर आपके सामने आया हूं। ये कहानी मेरी लाइफ की मस्ती से भरी हुई है। मुझे पूरी उम्मीद है, कि आपको मेरी ये कहानी पसंद आएगी।

तो चलिए फिर कहानी शुरू करते हैं।दोस्तो कहानी शुरू करने से पहले, मैं आपको बता दूं की मैंने ऐसी तो बहुत लड़कियों की चूत मारी है। पर ये कहानी एक मुसलमान लड़की की चुदाई की कहानी है दोस्तो अगर आपको अपनी जिंदगी में एक मुस्लिम लड़की की चूत मरने का मौका मिले।

तो बिना कुछ सोचे आंखें बंद करके उसकी चूत को चोद लो क्योंकि एक मुस्लिम लड़की एक चूत हमारी दूसरी लड़की से बहुत ही सॉफ्ट और अलग होती है उनका जिस्म बहुत बहुत हाय गोरा और मुलायम होता है जब उनकी चूत में लंड जाता है तो आपको तो मजा आता ही है।

कमसिन मुस्लिम लड़की की चुदाई का मजा

पड़ोस की लड़की को दिया पहली चुदाई का मजा-First Time Sex Story

पर आपके लंड को सबसे ज्यादा मजा आएगा मैं आपको ये सब इसलिए कह रहा हूं क्योंकि मैं एक मुस्लिम लड़की की जब से चूत मारी है मैं और मेरा लंड उसका दीवाना हो गया है ये सब कैसे हुआ मैं आपको सब कुछ शुरू से आज इस कहानी में बताऊंगा।

मैं शुरू से ही बॉयज़ स्कूल में पढ़ा था मुझे लड़कियों की परछाई तक देखने को नहीं मिलती थी मेरा मन बहुत करता था कि लड़कियों को देखूं उनके स्तन और गांड को दर्द से घुर घुर कर देखूँ जिसका लंड पैंट में ही खड़ा हो जाएगा.

फ़िर एक ख़ूबसूरत सी लड़की को पता कर उसकी चूत को जाम कर चोदूँ। पर मेरे ये सपने सिर्फ सपने ही रह गए। फिर मैंने जब स्कूल पूरा किया तो मैं कॉलेज में आ गया।

दोस्तो कॉलेज में चारो तरफ लड़किया ही लड़की थी मुझे तो ऐसा लगा कि मैं सवार हो गया हूं क्योंकि हर समय मेरे चारो और खूबसूरत लड़कियां रहती थीं मेरे सालो का सपना मानो सच होने वाला था अब तो बस मेरा एक ही सपना था।

की मैं जल्दी से एक लड़की को पता कर उसे जल्दी से चोद दूं अब मैं अपने मिशन पर लग गया था मैं हर आती जाति लड़की को लाइन मारने लग गया था। ताकि कोई साली मुझसे सेट हो जाए। पर कोई लड़की मुझे भाव तक नहीं दे रही थी।

दोस्तो उस समय मेरी क्लास में एक मुस्लिम लड़की थी उसका नाम अमीना था, वो बहुत ही सेक्सी और खूबसूरत लड़की थी। कॉलेज के सारे लड़के उसको चोदने के लिए पागल थे, वो उसे पटाने के लिए रोज कुछ ना कुछ करते थे।

पर अमीना है, किसी से फालतू नहीं बोलती थी वो सिर्फ अपने काम से काम रखती थी उसका रंग एक बांध गोरा था उसके लंबा काले घने बाल उसकी गांड तक आ रहे थे।

उसकी बड़ी बड़ी आँखो में कोई भी आराम से दूध खरीद सकता था। और उसके मोटे मोटे स्तन उसका सूट फाड़ कर बाहर आने को होते थे।उसकी पतली सी कमर के आला उसके मोटे मोटे छुट्टर किसी को भी अपना दीवाना बनने के लिए काफी थे।

उसके मोटे मटकते लंड देख कर मेरा लंड हर बार खड़ा हो जाता था। कॉलेज के लड़के तो लड़के अमीना पर कॉलेज के टीचर भी मरते थे।पर अमीना प्रकृति ऐसा था, कि उससे कोई बात करता भी डरता था।

वो किसी से भी कर बात नहीं करती थी। खैर ये तो रही अमीना की बात अब मैं अपनी कहानी आगे ले कर चलता हूं।अब तक मैं अपनी हरकतों की वजह से कॉलेज के डिफॉल्टर्स की लिस्ट में आ चुका था।

कॉलेज में ऐसा कोई दिन नहीं जाता था, जिस दिन कोई लड़की मेरी शिकायत नहीं करती थी। मैं अब पूरे कॉलेज में अच्छे से बदनाम हो चुका था।

जिस वजह से अब कोई भी लड़की मेरे सामने या गांड पास से निकलने तक नहीं थी। मैं ये सोचता था, कि ये बहन चोद मेरे साथ क्या बन गया है। मैंने तो कभी ऐसा सोचा ही नहीं था। फिर मैंने अपना दिमाग लगाया, कि अब मैं बदनाम तो हो ही गया हूं।

क्या बदनामी से पीछे इतना जल्दी से छूटने वाला नहीं है। क्यों ना अब मैं जरा बदनामी वाले काम भी कर ही लेता हूं। फ़िर मैं कॉलेज की हरामी और चुदक्कड़ लड़कियाँ के पास चला गया। वो सब पैसे और लंड की भूखी थी, मेरे पास पैसे की कमी नहीं थी।

इसलिए मुझे वो लड़की पटाने में ज्यादा मेहनत नहीं करनी पड़ी। अब तो मैं खाली पड़े क्लास रूम में उनको ले जा कर, उसके स्तनों को दर्द होता था। और तो और अपना लंड उनको काफी अच्छे से चूसता भी था.

कभी-कभी अच्छा मौका देख कर उनकी चूत को भी चोद देता था। अब मेरी जिंदगी काफी अच्छी चल रही थी, क्योंकि हर हफ्ते अब मैं किसी ना किसी की चूत मार लेता था। मैं अब सच में बहुत खुश था।

क्योंकि मेरा सालो का सपना पूरा हो गया था। मेरे लिए कॉलेज एक रंडी खाना बन चूका था, जहां मैं रोज पैसे देकर नई रंडिया चोदता था।पर मेरे दिल में खिन न खिन अमीना को चोदने का एक छोटा सा सपना था।

पर आसमा बहन चोद किसी से तो बात नहीं करती थी, तो मुझसे क्या बोलेगी। लेकिन एक दिन ऐसा हुआ कि मुख्य कॉलेज से नैन्सी नाम की लड़की को चोद कर घर वापस जा रहा था।

तभी मैंने देखा कि सड़क पर मेरे आगे अमीना भाग रही है। मैंने जल्दी उसकी स्पीड में बाइक चला कर उसके आगे रोकी और उससे पूछा।

मैं- अमीना क्या हुआ, तुम ऐसे क्यों भाग रही हो?अमीना मुझे देख कर एक बांध मुझसे लिपट गई और लंबी लंबी बिना लेते हुए बोली अमीना, अब्दुल्ला प्लीज मुझे बचा लो, मेरे पीछे काफी देर से कुछ लड़के लगे हुए हैं।

मैं,अरे तुम डरो मत मैं हूं ना, तुम अब जरा शांत हो जाओ।इतने में 4 लड़के भागे भागे हमें तरफ आ गए। सच कहूँ तो मेरी भी गांड फट गयी थी. क्योंकि वो चार लड़के हैं, और मैं अकेला था।

पर मेरी किस्मत अच्छी थी, उसी समय एक पुलिस की पीसीआर कार मेरे पीछे से निकल गई।पुलिस को देख कर वो चार लड़के डर कर भाग गये। ये जब अमीना ने देखा

तो उसे लगा कि वो लड़के मुझसे डर कर भाग गया है। इसलिए उसने मुझे और कस कर पकड़ लिया। फिर हम दोनों करीब 2 मिनट ऐसे रहे, फिर मैं बोला।

मैं,चलो अमीना वो चले गए, अब तुम बाइक पर बैठो मेरी बात सुन कर आसमा मुझसे अलग हुई, और मेरे साथ बाइक पर बैठ गई। फिर मैं एक रिजॉर्ट में ले गया।

जब मैंने जूस का उपयोग किया और खाना खिलाया। उस दिन उसने मेरे साथ बैठ कर करीब दो घंटे बाते करी हम दोनों एक दूसरे के साथ काफी खुश लग रहे थे।

आसमा मेरे साथ बैठ कर काफी है। फिर उस दिन के बाद मैंने उसे घर तक छोड़ दिया। फिर कॉलेज में वो सिर्फ मेरे साथ बात करती थी।मुझे और अमीना को एक साथ देख कर सब लड़कों की गांड में आग लग गई थी।

कमसिन मुस्लिम लड़की की चुदाई का मजा

चाची को चखाया लंड का स्वाद-Chachi Sex Story

क्योंकि मैंने अमीना को सेट कर लिया था, धीरे-धीरे मुझे अमीना से प्यार हो गया। जब से अमीना मेरी जिंदगी में आई थी। तब से मैंने बाकी रंडियों को छोड़ दिया था।

क्योंकि मुझे अमीना काफी शरीफ और अच्छी लड़की लगती थी। मैं उसके साथ अपनी पूरी जिंदगी का आनंद लेना चाहता था। आमसा को देख कर मुझे लगता था, कि अब वो भी मुझे पसंद करने लग गई है। इसलिए मैं एक दिन मोका देख कर उसे अपने प्यार का इजहार कर दिया।

पहले तो आसमा ने थोड़े नखरे किये, पर बाद में वो मान गयी। मैं सच में उस दिन काफी खुश हो गया। मुझे ऐसा लगा कि मानो मैंने कोई जंग जीत ली है। अब सिर्फ अपने प्यार को चुदाई करके और भी ज्यादा सच्चा प्यार बनाना था।

हमारे कॉलेज के सबसे ऊपर वाला फ्लोर एक बांध खाली रहता था। वो फ्लोर आशिकी के लिए मशहोर था। जहां पर सिर्फ लड़का लड़की की चुदाई ही करते थे, और जहां कोई काम नहीं होता था।

कॉलेज के ख़तम होने के बाद मैं एक दिन अमीना को ऊपर वाले फ्लोर पर चुपके से ले गया। जब मैंने एक खाली क्लास में उसे ले लिया, मैंने अंदर से दरवाजा बंद कर लिया और अमीना को दीवार से लगा लिया।

अमीना, अब्दुल्ला मुझे डर लग रहा है.मैं, जान मैं तेरे साथ हूं, फिर भी तुझे डर लग रहा है?अमीना,नहीं ये तो सच है. अगर तुम मेरे साथ हो तो मुझे डर केसा मेरे जानू।

ये सुनते ही मैंने कुछ नहीं कहा, और उसके होठों को अपने होठों पर रखकर जोर जोर से किस करने लग गया। अमीना भी मेरा पूरा साथ दे रही थी, वो मेरे होठों को ऐसे चूस रही थी। मानो वो भी काफी टाइम से मेरी तरह इस मोके की तलाश में थी।

कुछ ही देर में हम दोनों बहुत ज्यादा गरम हो गए। मैं अमीना के कपड़े निकलने लग गया. पर आसमा डर रही थी, कि ख़िन कोई आ ना जाए, उसका डर ख़तम करने के लिए मैं बोला।

मैं,अरे अमीना तुम फिकर न करो, यहां कोई नहीं आ सकता।अमीना, क्यों?मैं, क्योंकि सारा कॉलेज अब अपने घर जा चुका है। इसलिए अब हम दोनों के सिवा यहां कोई नहीं है।

ये सुन कर अमीना थोड़ी बेफिक्री हो गई. अब मैंने उसका कुर्ता निकाल दिया, अब उसके गोरे स्तन लाल रंग की ब्रा के अंदर फंसे हुए हैं। मैंने बड़े प्यार से अपनी बाहों में लिया। और उसकी कमर पर हाथ ले जा कर मैंने उसकी ब्रा के हुक खोल दिये।

ब्रा के हुक खुलते ही उसके स्तन एक डैम उछल करे मेरे कानों में आ गए। उसके स्तन इतने मस्त और मुलायम थे, कि मैंने आज तक ऐसे स्तन नहीं देखे थे। मैं उसके स्तनों को जोर जोर से पकड़ कर चूस रहा था। अमीना भी बड़े मजे में मेरा सर दबा कर मुझसे अपना स्तन चूस रही थी।

मैंने उसके दोनों स्तनों में दर्द चूस चूस कर लाल कर दिया। अब अमीना ने अपना हाथ मेरी पैंट पर रखा और बाहर से ही मेरे लंड को मसलने लग गई।

मैंने भी अपनी पैंट खोली और अपना लंड 8 इंच लम्बा लंड उसको सामने रख दिया। मेरा लंड देखते ही अमीना ने हाथ में लिया और वो बोली. आसमा, अरे अब्दुल्ला तुम्हारा लंड तो बहुत ही मस्त है, इसको चूसने में तो आज मजा ही आ जाएगा।

मैं अमीना के मुंह से ये बात सुन कर काफी परेशान हुआ और मैं तभी उससे बोला।मैं, आसमा क्या मतलब, तुमने पहले भी लंड लिया हुआ है?अमीना,एक लंड नहीं मैंने 4 लंड लिए हैं. एक अपने पापा का, एक भाई, एक चाचा और एक दूध वाले का।

मैं- क्या?अमीना , अरे मैं मुसलमान हूं, हमने तो जवान होते ही हमारा बाप या भाई चोद देता है।ये कहते ही आसमा आला बैठ कर मेरा लंड चूसने लग गयी।

मैं उसके लंड को चूसने के तरीके को देख कर पागल हो गया। उसने करीब 3 मिनट हाय मेरे लंड का पानी निकालने वाला कर दिया। उसकी कोमल हालत जब मेरे लंड पर चल रही थी। तो मैं दीवाना हो रहा था।

मैं समझ गया था, कि इस लड़की के साथ मैं पूरी जिंदगी नहीं बिता सका। क्योंकि ये रंडी है बहन की लोड़ी. अब मैं इसे रंडी समझ कर ही चोदूंगा। ये सोचते ही मैंने अमीना का सिर पकड़ा और जोर जोर से ढकेल मार कर उसका मुंह चोदने लग गया।

उसके बाद मैंने उसे खड़ा किया और उसकी सलवार पर पैंटी उतार कर मैंने बेंच पर ले लिया। दोस्तो कसम से एक मुस्लिम लड़की चूत ही एक असली चूत होती है। एक बांध पूरी तरह से हुआ, एक बांध नरम ऊपर से एक भी बाल नहीं होता।

मैं तो उसकी चूत पर अपनी जीभ चलाने के लिए मारा जा रहा था। मैने जल्दी से एपीएनपर मरते हैं. उसके चेहरे पर आपने अपने लंड का पानी निकाला होता है।

कमसिन मुस्लिम लड़की की चुदाई का मजा

बहन की जवानी भाई के लंड की दीवानी-Bhai Behen ki Chudai

तो आप के लिए ये कितनी बड़ी बात होती है, जरा सोचना मेरे बारे में है। खैर फिर मैंने अमीना से अपना लंड साफ करवा लिया और जल्दी से कपड़े डाल कर हम दोनो वहां से निकल लिये।

पर मुझे शक था, कि हम दोनों चुदाई करते हुए कोई देख रहे थे। इसलिए मैं कॉलेज के गेट पर ही रुक गया, थोड़ी देर बाद मेरी एक टीचर बाहर आई। मैं समझ गया कि ये ही थी वो जिसने मुझे चुदाई करते हुए देखा है,

दोस्तो अब आगे मैं बताऊंगा कि वो मैडम कौन थी, और मैंने उसकी चुदाई कैसे की। आपको मेरी कहानी कैसी लगी, कृपया मुझे जरूर बताएं। मुझे आपके कमेंट्स का इंतज़ार रहेगा।

By tharki

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *