पापा के लंड को मिला कुंवारी चूत का मजा

नमस्ते दोस्तों! मैं हूं सुमन मैंने बहुत सी कहानियां पढ़ी हैं डीके पार तो मेरा भी मन किया कि मैं भी अपनी कहानी आप लोगों के सामने पेश करूं मेरी उमर 30 है मैं शादीशुदा हूं मेरा साइज़ 32 36 34 है ये कहानी तब की है जब मैं 18 साल की थी हम अलीगढ मैं रहते थे।

मैं मेरे पापा, मेरी माँ, मेरी बड़ी बहन और मेरा एक छोटा भाई और एक बड़ा भाई मेरे पापा की उम्र 42 साल थी और वह बैंक में मुख्य नौकरी करते थे और माँ की उम्र 40 साल थी और वह भी टीचर थीं हम सब मिलजुल कर बड़ी ही खुशगवार जिंदगी जी रहे थे मैं आपको ज्यादा बोर ना करते हुए सीदा कहानी पे आती हूं क्योंकि मैं आपको बोर नहीं करना चाहती।

बात उन दिनों की है जब मैं 12वीं में थी मेरी उम्र 18 साल की थी मेरी बड़ी बहन की सगाई हो चुकी थी मेरे बड़े भाई इंश्योरेंस कंपनी में काम करते थे और छोटा भाई 11वीं बार मैं था माँ और पापा सुबह अपनी नौकरी पर चले जाते थे और घर सिर्फ दीदी रह जाती थी और मैं और छोटा भाई स्कूल चले जाते थे।

पापा के लंड को मिला कुंवारी चूत का मजा

पड़ोसन आंटी की पलंगतोड़ चुदाई-Aunty Ki Chudai

तब मुझे सेक्स के बारे में कुछ खास पता नहीं था, बस मेरी एक दो सहेलियों ने बताया था कि सेक्स करने में मुझे बहुत मजा आता है हमारा घर डबल स्टोरी था नीचे एक रूम में माँ और पापा सोते थे और उनके साथ वाला रूम मेरा था।

माँ पापा के कमरे का बाथरूम मेरे कमरे से अटैच था मेरे साथ वाले कमरे में मेरा छोटा भाई सोता था और ऊपर एक कमरे में बड़े भैया और एक मैं दीदी सोते थे बात दिसंबर की है मेरे मामा जी की बेटी की शादी दिसंबर में होगी शुक्रवार का दिन था।

माँ ने कहा कि कल तुम्हारे मामा जी हमें लेने आ रहे हैं आज उनका फोन आया था ये बात सुनके सब बहुत खुश हुए लेकिन मैं उदास हो गया तो माँ ने पूछा क्या बात है तो मैंने बताया कि अभी मेरे दो एग्जाम पड़े हैं एक तुसेडे है और दूसरा शादी के एक दिन पहले मैं नहीं जा पाऊँगी छोटे भाई के एग्जाम ख़तम हो चुके थे।

तो पापा ने कहा कि मुझे भी बैंक से 2 दिन की ही छुट्टी मिलेगी मैं और सुमन शादी से एक दिन पहले आ जाएंगे तुम सब लोग कल चले जाना तो वो सब बहुत खुश हो गए मेरे माँ और पापा एक दूसरे से बहुत प्यार करते हैं मैंने उन्हें कभी झगड़े हुए नहीं देखा।

बात शुक्रवार की है रात की है करीब 11 बजे मेरी आंख खुली और मुख्य बाथरूम करने के लिए उठी मैं जब बाथरूम में गई तो मैंने पापा के कमरे में से कुछ आवाज आती हुई सुनी तो बिना कोई आहट किया दरवाजे से कान लगा के उनकी बातें सुनने लगी।

पापा मम्मी से कह रहे थे कि तुम एक हफ्ते के लिए मुझसे दूर चली जाओगी मैं कैसे रहूंगा तुम्हारे बिना तुम्हें पता है कि मैं जब तक एक बार तुम्हें चोद ना लूं मुझे नींद नहीं आती है उनकी ये बातें सुनकर मैं सैन रह गई थी माँ – श्रीफ एक हफ्ते की ही तो बात है फ़िर आपका पास ही हूँ मैं फिर कहाँ जाना है मुझे।

आज मुझे जी भर के छोड़ दो पूरे हफ्ते की कसर लेकिन पहले ये देख कर आई कि आपकी लाडली बेटी सुमन सो गई है कि अभी जाग रही है पापा- मैं अभी तो देख कर आया हूं उसके कमरे में कि वो सो रही है माँ – फिर भी एक बार देख लीजिये नहीं तो मैं भी सोने लगी हूँ पापा – ठीक है बाबा देखता हूं और पापा बिस्तर से नीचे उतरने लगे तो मैं जल्दी से अपने कमरे में आ गई और सोने का नाटक करने लगी।

अब मुझे नींद कहाँ आनी थी क्योंकि अब तो मुझे पापा ने माँ को चोदते हुए देखा था कि ये सब कैसे होता है पापा के जाने के बाद मैं फिर से उठी और बाथरूम में आ गई और दरवाजे के की होल में नजरें लगा दी कमरे में हल्की रोशनी थी अंदर का नजारा देख कर मैं दंग रह गई अंदर पापा और मां बिल्कुल नंगे बैठे हुए बिस्तर पर।

पापा माँ के स्तनों को चूस रहे थे और माँ पापा के लंड को जो 8 इंच लंबा और 2 इंच मोटा होगा पकड़ कर हाथ से सहला रही थी फिर पापा ने माँ को बिस्तर पर लिटा लिया और उनकी चिकनी चूत को चाटने लगे और माँ के मुँह से ओह्ह्ह्ह आआह्ह्ह की सिसकियाँ निकलने लगी पापा उसमैन आपनी पूरी जीब घुसा रहे थे।

ये सब देख कर मुझे पता ही नहीं चला कि कब मेरा हाथ मेरी चूत पे चला गया और मुख्य उपयोग शुरू हो गया मेरी चूत बिल्कुल गीली हो चुकी थी फ़िर माँ ने पापा के लंड को मुँह में ले लिया और लगी लॉलीपॉप की तरह चूसें अब पापा चूस रहे थे।

फिर पापा और माँ 69 के पेज पर मैं आ गई और फिर 5 मिनट बाद पापा ने अपना मोटा लंड माँ की चूत पर रखा और एक ही झटके में अंदर घुस दिया पापा पूरे ज़ोर से ढके मार रहे थे और माँ अलग हो रही थी आह मेरी जान ओह्ह मेरी जान या ज़ोर से लो अपनी रानी की आह ओह्ह और ज़ोर से बहुत मजा आ रहा है मर गई और ते मारो और फिर कोई 15 मिनट बाद दोनों शांत हो गए यानी फारिग हो गए

फ़िर माँ पापा से बोली माँ – आज बहुत ज़ोर लगा रहे हो क्या बात है पापा- तुम जानती हो तुम्हारे बिना 1 हफ्ते के लिए निकलना है तो उसकी कसर पूरी हो रही है, आज सारी रात तुम्हें सोने नहीं दूंगा टंकी जी भर के तुमसे प्यार कर सकता हूं माँ – मैं भी आज सोना नहीं चाहती बस आप से चुदवाना चाहती हूँ पापा- साची माँ – हन मेरी जान बिलकुल सच्ची

और फिर मैंने देखा कि माँ ने पापा के लंड को मुँह में ले लिया और फिर चूसने लगी अब की बार माँ कोई 20 मिनट तक लंड को चूस रही है और फिर मैंने देखा कि सफ़ेद सफ़ेद से रस निकला किसे माँ सारा पी गई और बोली आपका रस बहुत अच्छा है लगता है मुझे तो पापा ने कहा कि पी लो मेरी जान सारा ही पी लो।

फिर मैंने सारी रात में 3 बार उनकी चुदाई का नजारा देखा जिसे देख कर मेरी हालत खराब हो रही थी सुबह के 3 बजे थे लेकिन मुझसे बाथरूम में से उठा नहीं जा रहा था क्योंकि मेरी टैंगो से जैसी जान ही निकल गई थी मैं जैसे तैसे उठी और अपने बिस्तर पे आ कर लेट गई और सोचने लगी कि क्या सच है मुख्य सेक्स करने से इतना मजा मिलता है और बार-बार मेरी आंखों के सामने पापा का तन हुआ लंड आ जाता था।

मेरी चूत थी कि पूरी गरम हो चुकी थी मुझे नहीं पता था कि उसे कैसे शांत करना है बस मैं उसे इस्तेमाल करना ही चाहती थी फिर मुझे पता ही नहीं चला कब नींद आ गई अगले दिन शनिवार था जब मैं उठी तो 12 बजने वाले थे और बाहर आ कर देखा तो मामा जी आ गये थे माँ दीदी और छोटे भाई ने साथ जाने के लिए अपना सामान पकड़ लिया था। बड़े भाई को 2 दिन का टूर था तो उन्हें कह दिया था कि वो सीधे वहीं पहुंच जाएंगे।

करीब 2 बजे मामा जी उनको ले कर चले गए। पापा भी जल्दी आ गए सैटरडे की वजह से। मैंने उन्हें चुना दी या फिर उन्हें मामा जी या माँ सब के लिए रिक्शा मंगवा लिया और वो चले गए। अब घर मैं सिर्फ मैं और पापा ही रह गए फिर मैं भी अपने कमरे में चली गई और पापा अपने कमरे में चले गए क्यों कि सारी रात मैं भी सोई नहीं थी, इसके लिए मुझे भी नींद आ रही थी।

मैंने जैसी ही आंखें बंद की मेरी आंखों के सामने पापा का तन हुआ लंड घुमने लगा जैसे तैसे करके मुझे नींद आ गई और मैंने एक सपना देखा कि मैं बिस्तर पर नंगी लेती हूं और पापा मेरी चुत चैट कर रहे हैं या मुझे बहुत मजा आ रहा है है इतने में मेरी आंख खुल गई और फिर मुझे नींद नहीं आई मुख्य चूहे का खाना बनाया और फिर खाना खाने के बाद पापा अपने कमरे में चले गए और मैं अपने कमरे में चली गई।

मुझे नींद नहीं आ रही थी मैं करीब 11 बजे बाथरूम में गई तो देखा पापा के कमरे में से हकी रोशनी आ रही थी। मैंने चाबी वाले छेद से देखा तो पापा बिस्तर पर नंगे बैठे थे और अपने लंड को सहला रहे थे मैं समझ गया कि पापा को माँ की याद आ रही है। पापा अपने लंड को अपने हाथों से ऊपर नीचे कर रहे थे।

मुझे पापा पे बहुत तरस आ रहा था कि कैसे वो अपने लंड को खुद ऊपर कर रहा था मेरा मन कर रहा था कि मैं भाग के जाऊं और उसके लंड को मुंह में ले कर चूसें लागू लेकिन मेरी तो टांग ही हिल नहीं पा रही थी

फिर मैंने देखा कि पापा के लंड ने पानी छोड़ दिया है और वो बिस्तर से नीचे उतरने लगे तो मैं जल्दी से अपने कमरे में आ गई। सारी रात मैंने करवाते बदलते हुए निकल दी बस ये सोचते हुए कि क्या मुझे मेरे पापा का लंड मिल सकता है है लेकिन कैसे ये ही समाज मैं नहीं आ रहा था।

मैं चाहती थी कि किसी तरह मैं अपने पापा को पता लूं और उनसे चुदाई करवाऊं लेकिन कोई प्लान नहीं बना रहा था। सुबह करीब 3 बजे थे कि मेरे आदमी में एक आइडिया आ गया और मैंने सोचा कि अगर वो सफल हो गया तो बात बन जाएगी।

सुबह उठे ही मैं पापा के लिए चाय बना लूं और खुद भी पेशाब कर लूं और सफाई करने लगी लेकिन जब मैं पापा के कमरे में गई तो मैंने मां की नाइटी पहन ली थी। और आला ब्रा भी नहीं पहनी थी तब मेरे स्तन हाथ में आने जैसे हो गए थे और बहुत अच्छे से मसले जा सकते थे। माँ की नाइटी की वजह से जब मैं झुकती थी तो उसका गला बड़ा होने की वजह से मेरे स्तन साफ नजर आ जाते थे।

पापा बिस्तर पर बैठे हुए थे उनका पायजामा और बनियान पहननी हुई थी। मैं जान बुज कर पापा की तरफ मुंह करके झुक रही थी टंकी पापा मेरे स्तन एक बार देख लें लेकिन वो तो टीवी देखें मैं मस्त था इसके लिए मैंने झुके झुके ही बिना पापा की तरफ देखे कहा कि पापा आज क्या खाना चाहते हैं।

मैंने चोर नजर से देखा कि इस बार पहली बार पापा ने मेरी तरफ देखा और उनकी नजर मेरे स्तनों पर चली गई तो अनहोनी झट से दूसरी तरफ कर लिया, लेकिन अब वो बार बार चोर नजर से मेरे नंगे स्तनों को निहारने लगे मैं सीधी हुई तो देखा कि वो पैजामे मैं अपने तने हुए लंड को दबाने की कोशिश कर रहे थे।

मैं समझ गई कि मेरे स्तन देख कर उबका लंड अकडने लगा है मैं फिर से झुक कर उन्हें अपने स्तन दिखाने लगी और पोछा लगाने लगी मैंने देखा कि अब तो उनका लंड फ़नकारे मारने लगा था मैं सोच रही थी कि कैसे पापा के लंड को आपने से टच करवाउ और फिर मैं बाहर आ गई और दरवाजे के पीछे चुप के देखने लगी कि पापा क्या करते हैं तो मैंने देखा कि अपने लंड को सहला रहे थे।

फिर मेरे दिमाग में एक और प्लान आ गया तो मैंने सोचा कि क्यों ना अभी गरम लोहे पर चोट की जाए तो मैंने पापा से कहा कि पापा आज छूटी है खाना हम बाद में खाएंगे चलिए आप मुझे अभी स्कूटर सिखाएं मैं चाहती थी कि जब पापा पीछे बैठे तो उनका लंड मेरी चूत को स्पर्श करे और अगर एक बार ऐसा हो गया तो शायद पापा खुद पर कंट्रोल न रखें और मुझे चोद डालें।

मैंने जल्दी से दूसरे कपड़े पहन लिए थे तो पापा बाइल की बाद मैं सिखा दूंगा तो मैंने कहा कि नहीं अभी चली तो वो कहने लगे कि पेंट तो पहन लूं तो मैंने कहा कि सिर्फ कुर्ता पहन लिया पायजामा तो आपने पहचाना ही है आपका बैंक नहीं जाना जो पेंट पेहन्नी है मैं नहीं चाहती थी कि पापा पेंट पहने क्यों कि पेंट में लंड उतना खुले से नहीं घूम सकता जितने की पैजामे में।

हमारे घर से थोड़ी दूरी पर ही एक ग्राउंड था जहां पे लोग घूमते थे लेकिन दिसंबर की वजह से वो 12 बजे से पहले वहां नहीं आते थे और अभी तो 8 बजे थे तो मैं और पापा वहां चले गए पापा के लिए वहां जा कर पापा पीछे बैठ गए और मुझे आगे बैठने को कहा तो मैं जान बुझ कर उनसे चिपकी हुई बैठ गई मैंने देखा कि मुझे उनके लंड ने टच नहीं किया था मतलब अभी वो शांत था।

पापा ने मेरी दोनो बाहों के आला से स्कूटर का हेंडल पकड़ा और मुझे भी हेंडल पकड़ने को कहा और फिर मुझे स्कूटर सिखाने लगे मैं जान बुज कर आपने बाजू दबा देती थी टंकी पापा के बाजू मेरे बूस को टच करने लगें ऐसा करने से मुझे अब मेहसूस हो रहा था कि पापा का लंड खड़ा होने लगा है मुझे अपनी पीठ पर कोई चीज़ टच करती महसूस हो रही थी।

अब मैं पापा के लंड पर बैठना चाहती थी तो कोई बहाना ढूंढने लगी मैं थोड़ा बहुत स्कूटर चलाती थी लेकिन ये पापा को नहीं पता था। मैंने अपनी चप्पल नीचे गिरा दी और स्कूटर रोक कर कहा कि पापा मैं चप्पल ले कर आई जब मैं चपल लेकर आई तो मैंने चोरी से देखा कि पापा का लंड फफक रहा है।

मैं जान बुज कर पापा के पेट से गिर गई बैठी और इस बार उनका लंड मेरे चूतों के नीचे दब गए तो पापा बोले सुमन कैसे बैठी हो जरा आगे हो कर बैठो तो मैंने कहा कि उम्र थोड़ी सी तो जगह है और स्कूटर चलाने लगी पापा का लंड मेरे चूतों के नीचे ही दबा हुआ था फनकार रहा था मुझे बहुत अच्छा लग रहा था मेरी चूत गीली हो रही थी लेकिन मैं तो अंजन बनी बैठी थी जैसे कुछ पता ही नहीं हो कि उनका लंड मैं दबा के बैठी हूँ।

मैंने पापा से कहा कि आप हेंडल चोद दीजिए मैं चलती हूं तो मैं धीरे-धीरे स्कूटर चलाने लगी और पापा ने दोनों हाथों से मेरी कमर पकड़ ली और अंजने मैं ही उनसे मेरे स्तन टच हो गए तो मुझे लगा कि पापा अपना कंट्रोल खो रहे हैं क्योंकि मैंने महसूस किया कि उनके हाथ मेरे बूस को हल्का हल्का मसल रहे थे।

मैं तो यही चाहती थी कि मुझे और क्या चाहिए था। पापा का लंड अभी भी मेरी चूतों के नीचे फंस रहा था मैंने पापा से कहा कि एक मिनट पहले पकड़ लिया मैं जरा ठीक हो कर बैठ जाऊं और मैं थोड़ा और पीछे को हो कर बैठ गई टंकी उनका लंड मेरे नीचे से निकल न पाए।

पापा के लंड को मिला कुंवारी चूत का मजा

पार्क में मिली लड़की को चोदा-Antarvasna

अब शायद पापा समझ गए थे कि मैं भी उनसे चुदवाना चाहती हूँ इस लिए, अब उन्हें भी डरते हुए अपने हाथ मेरे स्तनों पर रख दिए और मसलने लगे मैं तो जैसी जानत मैं पाहुंच गई थी लेकिन मैंने कहा कि पापा ये क्या कर रहे हैं तो वो बोले कुछ नहीं और वो डर गए और आपने हाथ पीछे कर लिया मेरा तो सारा मजा ही खराब हो गया।

फिर थोड़ी देर बाद हम घर आ गये। पापा सोफे पर बैठ गए और मैं उनके लिए पानी लेने चली गई लेकिन अपनी गांड को इतना परेशान हुए कि पापा का मन डोल जाए फिर हम अपने अपने कमरे में चले गये फिर शाम को पापा सोफे पर बैठे थे और वो सोफा किचन के दरवाजे के बिल्कुल सामने ही थे और मुख्य रसोई में खाना बना रही थी, मुझे पता था कि पापा सामने हैं, तो मैं जान बुज कर अपनी गांड मटका रही थी।

आख़िर पापा के सबर का बंद टूट ही गया और वो उठ कर मेरे पीछे आ कर खड़े हो गए, मैंने महसूस किया कि उनका लंड मेरी पीठ को छू रहा है लेकिन मैंने कुछ नहीं कहा और पापा बोले कि आज मेरी सुमन क्या बना रही है तो मैंने कहा कि दाल चावल जो कि मेरे पापा के पसंदीदा हैं तो वो खुश हो गए कि वाह मेरी पसंदीदा चीज़ बन रही है।

तो मैने कहा कि हां जी अब अपने लंड का थोड़ा सा दबाव मेरी पीठ पर डाला लेकिन मैंने कुछ नहीं कहा तो उनकी हिम्मत और खराब हो गई और उन्हें मेरे स्तन पकड़ लिया और मसलने लगे तो मैंने थोड़े गुस्से से कहा कि पापा आप क्या कर रहे हैं तो उन्हें एक दम से हाथ हटा लीजिए।

तो मैं डर गई कि कहीं वो चले ही ना जाएं, इसके लिए मैंने अपनी गांड को थोड़ा पीछे कर दिया तन की उनको ये एहसास हो सके कि ये मेरा नकली गुस्सा है पापा समझ गए और उन्होंने अपने लंड का दबाव और बड़ा दिया मेरी पीठ पर, मुझे तो मजा आ रहा था और मैं तो खुद तैयार थी चोदने को बस नखरे दिखा रही थी फिर जब मैंने कुछ नहीं कहा तो उन्हें हटा दो फिर से मेरे स्तन मसलने शुरू कर दिए और मेरी गर्दन पर चुंबन करने लगे।

मुझे परम आनंद आ रहा था मैंने उनसे कहा कि आआह्ह्ह पापा लगता है आपको माँ की बहुत याद आ रही है तो वो बोले कि तुम्हें कैसे पता तो मैंने कहा कि तभी आप मुझे तंग कर रहे हो तो वो बोले कि नहीं मेरी जान मुझे तुमपे प्यार आ रहा है और फिर उन्हें मैंने अपनी तरफ घुमा लिया और अपने होठों पर रख दिए और चूसने लगे मेरे होठों को।

उनका फैनफनाता हुआ लंड मेरी चुत से टच कर रहा था और कह रहा था कि अभी गस जौन इसमैन और मेरी चुत वो तो बेताब हो गई थी लंड का दीदार करने को या अपने अंदर लेने को इस्तेमाल करें करीब 10 मिनट तक मेरे होठों का रसपान करने के बाद पापा ने कहा कि तुम बहुत अच्छी हो मैं आज तुमसे प्यार करना चाहता हूं।

पापा ने गैस बैन कर दिया और मुझे भगवान ने उठा लिया और अपने कमरे में ले गए और मुझे बिस्तर पर लिटा दिया मैंने कहा कि पापा खाना तो बनाना दो तो वो बोले कि खाना बाद में बनाना पहले मैं आज तुम्हें कुछ सिखाना चाहता हूं तो मैंने कहा कि क्या तो वो बोले कि प्यार करना फिर अन्होने मेरी नाइटी उतार दी मैंने ब्रा और पेंटी पहनी थी ब्लैक रंग की जगह।

मैं एक दम से शर्मा गई तो वो बोले कि शर्मा क्यों रही हूं मैं कोई गैर नहीं हूं हाथ हटाओ आपने और मुझे जी भर के देखने दो। फिर पापा ने अपना कुर्ता और पैजामा भी उतार दिया अब उन्हें केवल अंडरवियर पहना हुआ था और उसके अंदर उनका फैनफनाता हुआ लंड था जो मुझे देख कर झटके खा रहा था।

फिर पापा मेरे पास आये और मुझे चूमने लगे मेरे सारे बदन को चूमने लगे और फिर मेरे होठों पे होठों लगा के मेरे होठों का रसपान करने लगे कभी कभी वो अपनी जिब मेरे मुँह में डाल देता था मुझे बहुत ही मजा आ रहा था एक हाथ से वो मेरी अन टच बूब्स को भी सहला रहे थे।

फिर पापा ने मेरी ब्रा उतार दी या मेरे स्तनों को चुनने लगे मुझे बहुत मजा आ रहा था फिर उन्हें मेरी पेंटी भी उतार दी और मैंने कोई विरोध नहीं किया मेरी चूत को देख कर वो चिहुंक उठे मेरी चूत पे छोटे छोटे बाल मेरी चूत देखते ही वो बोले कि वाह क्या मस्त चूत है तुम्हारी तो तुम तो जवान हो गई हो आज तुम्हारे मैं जवानी का मजा देता हूं और एक हाथ से मेरी चूत को सहलाने लगे।

मैंने भी हिम्मत की और अपना हाथ उनके अंडरवियर में डाल दिया तो मुझे ऐसा लग जैसे मैंने किसी लोहे की गरम रॉड को टच किया हो उनका लंड पूरा ख़राब हुआ था और फनकारे मार रहा था मैंने उनका अंडरवियर उतार दिया और उनके लंड को आज़ाद कर दिया

उसे देखते ही मैं बोली पापा आपका लंड बहुत बड़ा है तो वो बोले कि हां मेरी जान आज ये तुम्हें वो सुख देगा कि तुम रोज इसे मजा लेना चाहोगी और मैं तो यही चाहती थी लेकिन मैंने कहा कि इसे आप करोगे क्या तो वो बोले कि इसको तुम्हारी चूत मैं डालूंगा तो डर गई बोली कि पापा इसे तो मेरी चूत फट जाएगी मैं नहीं डालूंगी इसे अपनी चूत में तो वो बोले कि ठीक है मत डालवाना।

फिर मैंने दोनों हाथों से पापा के लंड को सहलाना शुरू किया और फिर मुख्य इस्तेमाल के लिए मुंह में लेकर छूने लगी जैसे कि मां ने किया था मुझे बहुत मजा आ रहा था और पापा की सिस्कियां कमरे में गूंज रही थी अह्ह्ह्ह!!! मेरी जान और जोर से चूसो मेरी जान आह क्या मजे से छुपी हो तुम तो लगता ही नहीं कि पहली बार लंड चूस रही आह नहीं खूब और जोर से मेरी रानी आह पूरा अंदर ले कर आह बहुत मजा आ रहा है आह।

करीब 10 मिनट तक मैंने उनका लंड चूसा और फिर उन्हें मुझे चाट लिया और मेरी बुर पे आपने डोनो प्यार रख दिया तो मेरे मुँह से एक सिकरी सी निकल गई आह्ह्ह्ह और फिर पापा मेरी बुर को चाटने लग अपनी जीभ को मेरी चूत के अंदर घुमाने लगे मैं तो जानत मैं थी बहुत मजे आ रहे मैं चूस रही थी।

अह्ह्ह्हही पापा हाय पापा ओह्ह पापा बहुत मजा आ रहा है हाय पापा आह्ह हाय मर गई पापा उईई पापा और चूसो अपनी बेटी की चूत को खा जाओ इसे आह्ह खा जाओ इसे पापा आह्ह ओह्ह उई मां।

फिर पापा मेरी योनि को मुँह में ले कर चुनने लगे तो मेरी तो जान ही निकलने वाली थी ऐसा आनंद मैंने पहले कभी नहीं पाया था मेरी तो कमरे में सिसकियाँ गूंजने लगी आह्ह्ह्ह पापा बहुत मजा आ रहा है पापा ओह्ह पापा और मेरी चूत फुल गरम हो चुकी थी अब मेरी चूत पापा के लंड को खाना चाहिए थी चाहती थी उनका लंड मुझमें समा जाए।

तो मैंने पापा से कहा कि आह पापा है अब नहीं आह जाता आह्ह्ह मुझसे आह्ह्ह्ह अब अपने आह्ह्ह्ह लंड को आह्ह्ह डाल दो आह्ह्ह मेरी चूत आह्ह्ह मैं तो वो बोले कि थोड़ी देर रुक जा रानी फिर डालूंगा तो मैंने कहा कि अब बर्दाश्त नहीं होता है आह अब डालदो अपने लंड को मेरी चूत में फाड़ दो मेरी चूत को या मुझे मजा दे दो आह अब और बर्दाश्त नहीं हो रहा है।

आह पापा अह्ह्ह्ह पापा हाये पापा चोदिये ना मुझे आअह्ह्ह्ह आ हाये उउइइइइइ माआआ प्लज़्ज़्ज़ पा फाड़ दोजीयई ना मेरी चूत को आअह्ह्ह हाये हाय पापा अपने मस्त मस्त लंड से मेरी चूत को मजे दो ना है हाय फ़िर पापा उठे और अपने तने हुए लंड पे और मेरी चूत पर थोड़ा तेल लगायें और अपने लंड को मेरी चूत पे गिरायें।

तो मैंने कहा कि आआह्ह्ह अब किस्स्स्स बात का इइंतजार हाएइइ पप्पा प्लज़्ज़ डल डिजीईईई ना इस्सईईई आनंददार आआह्ह्ह्ह लेकिन वो अपनी मस्ती में मेरी चूत पर अपने लंड को घीसा रहे थे और फिर उन्हें एक ही ज़ोर का झटका मारा और उनके लंड का सुपाड़ मेरी चूत में घुस गई और मेरी चीख निकल गई है मर गई मेरी चूत फट गई आह्ह्ह्ह मर गई मैं।

पापा इसे बाहर निकालें, प्लीज़ आह लेकिन पापा नहीं रुके और एक और झटके से आधे से ज्यादा लंड मेरी चूत में घुस गया दर्द के मारे मेरी जान निकल रही थी मैं चिल्ला रही थी कि पापा प्लीज अपना लंड बाहर निकाल लीजिये लेकिन वो तो मेरी चुचियों को मसलने में लगे थे और बोले कि बस एक झटका और फिर तुम्हें परम आनंद आएगा।

लेकिन मुझ से अब दर्द बर्दाश्त नहीं हो रहा था। और फिर पापा ने एक और झटका दिया और पूरा लंड मेरी कुंवारी चूत में समा गया मेरी सील टूट चुकी थी और मेरी चूत से खून निकल रहा था और मैं गाल पर आ रही थी पापा इसे बाहर निकालो हैइइ मइइइ मर्रर गइइइ हैइइ कोईइइ बचाओओओ मुझे हहाआई पप्पापा बाअहहर निकलोओ इसे हैईई।

लेकिन पापा ने धीरे धीरे से अपने लंड को आगे पीछे करना शुरू किया और साथ ही मेरे स्तनों को चुनने लगे अब धीरे धीरे मेरा दर्द कम हो रहा था और मेरी गालें कम हो रही थी। फिर धीरे-धीरे मुझे मजा आने लगा और मुझमें मस्ती भरने लगी थी। करीब 10 मिनट पापा यू ही धीरे-धीरे लगे रहे।

फिर मुझे मजा आने लगा और पापा ने भी अपनी स्पीड थोड़ी सी बढ़ा दी और मैं अब फिर से मजा लेले कर सिस्कार रही थी अह्ह्ह्ह पापा अह्ह्ह्ह पापा बहुत मजा आ रहा है माँ अह्ह्ह्ह पापा और ज़ोरर्रर्र से अह्ह्ह्ह और ज़ोरर्र से चोदिये हाये फाड़ दीजिये मेरी चूत को अह्ह्ह्ह पुरर्राआ लंड घुसा घुसा के चोदिये मुझे अह्ह्ह्ह।

हाय मर गई आह्ह्ह्ह हाय अह्ह्ह्ह पपापा मेरे पयारी पापाआ आह्ह्ह्ह आज अपनी बेटी को अपनी पत्नी समाज के पूरी तसली सीईईई चोदिये अह्ह्ह्ह और पापा शुद्ध जोश से मेरी चूत के परखचे उड़ाने में लगे हुए सारे कमरे में चाप चाप की आवाज गूंज रही थी।

पापा का लंड मेरी चूत में तबाही मच रहा था, लंड की रगड़ से मेरी चूत को जो आनंद मिल रहा था वो मैं यहाँ ब्यान नहीं कर सकती करीब 20 मिनट तक चुदवाने के बाद मुझे लगा कि मैं झड़ने वाली हूं मुझे यू लग रहा था कि जैसे मेरी जिस्म से जान ही निकल रही है मैं बोल रही थी।

अह्ह्ह्ह पापा हाय पापा अह्ह्ह्ह माई गई हाय मैं गई अह्ह्ह्ह अआईईईई अह्ह्ह्ह हाय अह्ह्ह्ह और फिर मैं झड़ गई और मुझे यू लगा कि मेरा जिस्म हल्का हो गया है और फिर दो चार और झटके मारने के बाद पापा भी झड़ गए और मेरे ऊपर ही लेट गए फिर कोई 15 मिनट बाद वो उठे और मेरी चूत में से अपना लंड बाहर निकला जो खून से लाल हो गया था और फिर से चादर भी उठा दी बिस्तर से जो खून से रंगी गई थी पापा बोले कि कैसे लगा मेरी जान

तो मैंने कहा कि बहुत मजा आया पापा आई लव यू पापा कि आपने मुझे इतना मजा दिया आपको कितना मजा आया तो वो बोले आज जो मजा मुझे आया है वो तो तुम्हारी मां को धोखा देने के बाद भी नहीं आया आज मैंने कुंवारी चूत फाड़ी है ये दिन मैं कभी नहीं भूलूंगा

फिर हमने बाथरूम में जा कर अपनी सफाई की और पापा बोले चलो अब खाना बनाते हैं पापा ने यू ही मुझे नंगी को ही गॉड मैं उठा लिया और किचन में ले आये और बोले कि सच मैं तेरी मन की कमी महसूस हो रही थी तो मैंने कहा कि अब आपकी मां की कमी महसूस नहीं होगी मैं हूं ना तो वो बोले कि हां मेरी जान अब तो तेरी मां से ज्यादा तुमसे ही मजा करने हैं।

फिर मैंने गैस जला दिया और वो वहीं पे आला बैठ कर मेरी चूत को चाटने लगे मुझ में फिर से मस्ती भरने लगी तो मैंने फिर से गैस बंद कर दिया पापा फिर से मेरी चूत को मस्त चैट कर रहे थे और मैं सिसक रही थी मैं वहां तंग फेला के खड़ी थी और वो मेरी चूत को प्यार कर रही थी, मुख्य सिसक रही थी आअहह पप्पा हैईई पापा मर गई पापा अह्ह्ह्ह ओह्ह्ह हाय प्लीज और चूसो इसे अह्ह्ह्ह हाय ओह्ह्ह्ह उईईई माँ अह्ह्ह्ह और फिर।

मेरी चूत ने पानी चोद दिया पापा ने सारा पानी चैट कर लिया और बोले कि तुम्हारी चूत का पानी बहुत नमकीन है, बहुत मजेदार है और फिर वो खड़े हो गए और मैंने उनके लंड को चुनना शुरू कर दिया और मस्त हो कर छुपे मरने लगी मैंने भी उनके लंड का पानी निकाल दिया और सारा पेशाब बहुत ही मजे से था उनका फिर मैंने खाना बनाया और उसके बाद खाना खाने के बाद हम पापा वाले कमरे में ही रहेंगे और सारी रात मस्ती की।

अगले दिन पापा ने बैंक से छुट्टी ले ली और सारा दिन घर पर रह कर मेरी मस्त चुदाई की अगले दिन मेरा एग्जाम था तो सारी रात पापा से चुदने के चक्कर में मैं पैड ही नहीं पाई तो पापा बोले कि एग्जाम कैसे दोगी तो मैंने कहा कि देखा जाएगा।

सुबह 10 बजे परीक्षा थी और पापा ने कहा था कि मैं ही तुम्हें चोद दूंगा रस्ते में। मैंने पापा से कहा कि आप जल्दी आ जाना आज घर पे क्योंकि मैं पूरा वीक आपके लंड का पानी पीना चाहती हूं जी भर के मैं कोई पाल आपके लंड का बीमा नहीं गुजारना चाहती बस जब मैं घर आऊंगी आप भी आ जाना तो वो बोले कि घर पहुंते ही फोन कर देना मैं आ जाऊंगा।

पापा के लंड को मिला कुंवारी चूत का मजा

सील पैक लड़की खोल गई लंड की खिड़की-First Time Sex Story

फिर उस हफ्ते मैंने पापा को बैंक नहीं जाने दिया रो ही सुबह से शाम और सारी रात उनके लंड से खेलती रही और उनके लंड ने मेरी ऐसी आग भड़काई कि अब लंड के बिना रहना मुश्किल था रोज ही मेरी चूत लंड के लिए बेताब रहने लगी

करीब 9 बजे थे या हम चलने को तैयार थे कि मैंने पापा से कहा कि पापा मेरा एक काम कर दीजिए तो वो बोले कि क्या तो मैंने कहा कि प्लीज एक बार मुझे और छोड़िए अभी नहीं तो मेरा एग्जाम अच्छा नहीं होगा तो वो बोले की ये क्या बात है लेकिन मेरे बार-बार कहने पे उन्हें मुझे चोदा और हमारी परीक्षा में मेरे सब सबसे बड़े नंबर पर हैं आये थे इस तरह वो सप्ताह मैंने और पापा ने पूरा आनंद लिया और हर परीक्षा के पहले मैं पापा से चुदवा के ही जाती रही।

फिर एक हफ्ते के बाद मैं और पापा शादी पर चले गए और वापस आ गए जिस दिन भी पापा का मुझे चोदने का मन हुआ था वो माँ के बेटे मैं नींद की गोली डाल देता था और बाथरूम से मेरे कमरे में आ जाता था और माँ के उठने से पहले वो मुझे मस्त चोद कर वहां वापस चले जाते थे तो दोस्तो आपको कैसी लगी मेरी कहानी कि मैंने अपने पापा को पता के अपनी कुंवारी चूत की सील उनसे तुड़वाई।

By tharki

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *