सौतेली बेटी को रंडी बना कर चोदा

हेलो दोस्तो मेरा नाम प्रकाश कुमार है मैं लखनऊ से हूं मेरी उम्र 48 साल है दिखने में मैं फिट हूं और लंड मेरा 7 इंच लंबा है और 3 इंच मोटा है ये कहानी मेरे और मेरी सौतेली बेटी के बीच बने रिश्ते की है। तो चलिए आपको सब डिटेल में बताता हूं।

पिछले साल ये सब शुरू हुआ। मेरी बीवी जिसे मैं बहुत प्यार करता था वो इस दुनिया से चल बसी उसके साथ मेरी सेक्स लाइफ बहुत अच्छी चल रही थी हम दोनों एक बेटा हैं जो विदेश में पढ़ाई करता है तो हम दोनों पति-पत्नी ही एक दूसरे का सहारा थे।

सौतेली बेटी को रंडी बना कर चोदा

बस में मिली आंटी घर पे चुदी-Aunty Ki Chudai

उसके जाने के बाद मैं अकेला हो गया मेरे काम में भी मन नहीं लगता था फिर मेरे बेटे ने मुझे फोन करके नई शादी करने को कहा मेरे रिश्तेदार भी यहीं कहने लगे पहले तो मैं नहीं माना लेकिन सब के साथ जबरदस्ती करने पर मैं मान गया।

फिर मुझे 40 साल की एक औरत से मिलवाया गया उसका नाम शीतल भाटिया था शीतल ने तलाक ले लिया था और उसकी एक 19 साल की बेटी थी उसका फिगर 36-32-38 था और रंग बहुत गोरा था कुल मिला कर वो बहुत सेक्सी थी

जब मैंने उससे बात की तो वो मुझे समझदार भी लगी अब हमें डोनो गुण थे। वो सेक्सी भी थी और समझदार भी तो मैंने रिश्ते के लिए हा बोल दिया कुछ दिनों में ही हमारी शादी हो गई शादी वाले दिन मैं पहली बार अपनी सौतेली बेटी से मिला।

मेरी नई बेटी का नाम पिंकी था वो भी अपनी माँ की तरह गोरी और सेक्सी थी हालाकी उस वक़्त मैंने उसको अपनी बेटी की नज़र से ही देखा था। उसका फिगर 32-28-34 था

फिर हम घर आ गये मैंने पिंकी को उसका रूम दिखाया और मैं और शीतल अपने रूम में चले गए फिर मैंने उसकी अपने बेटे से बात करवाई। बेटे से बात होने के बाद मैंने सोचा अब थोड़ा रोमांस किया जाएगा।

मैं शीतल के पास गया और उसको अपनी बाहों में भर कर चूमने लगा शीतल ने भी मुझे पूरा रिस्पॉन्स दिया कुछ मिनट किस करने के बाद मैंने उसके स्तन दबाये शुरू किये तभी शीतल ने मुझे कहा शीतल: आज मैं बहुत थक गई हूँ हम ये बाद में क्या?

मैंने ठीक बोला और फिर हम सोने चले गए अगले दिन जब सुबह उठ तो शीतल बिस्तर पर नहीं थी जब मैं बाहर गया तो वो किचन में नाश्ता बना रही थी मुझे देख कर उसने मुझे गुड मॉर्निंग बोला और नहा कर नाश्ता करने के लिए कहा।

मैं जल्दी से अंदर गया और नहा कर बाहर आ गया तभी पिंकी भी टेबल पर आ गई मैंने देखा पिंकी ने ब्लू शॉर्ट्स और पिंक टी-शर्ट पहनी थी उसकी शॉर्ट्स उसकी जाँघों तक थी और टी-शर्ट स्लीवलेस और डीप नेक वाली थी।

कपड़ो में उसकी क्लीवेज और सेक्सी जाँघें आसान से देखी जा सकती थी लेकिन मैं अभी भी उसके बारे में कुछ ऐसा-वैसा नहीं सोच रहा था दिन बीतने लगे और शीतल हर रात मुझे किसी ना किसी बहाने से सेक्स के लिए मना कर रही थी।

मैं समझ नहीं पा रहा था कि वो ऐसा क्यों कर रही थी मेरी सेक्स की भूख बढ़ती जा रही थी मुथ मार कर भी मेरे अंदर की आग शांत नहीं हो रही थी दोस्तों जब पार्टनर मर जाएगा तो बंदा फिर भी कंट्रोल कर लेता है लेकिन सेक्सी औरत साथ हो पर फिर भी उसको चोदने का मिले तो बहुत दिक्कत होती है।

शीतल मुझे उसको हाथ लगाने नहीं देती थी तो धीरे-धीरे मेरा ध्यान भटकने लगेगा अब सेक्सी ड्रेस पहनने वाली पिंकी के जिस्म पर मेरा मन डोलने लगा। जब भी वो मेरे सामने होती तो मैं उसको ही देखता रहता।

नाश्ते की टेबल पर मैं उसकी क्लीवेज देखने की कोशिश करता हूं चलते-फिरते वक़्त मैं उसकी मटकती गांड देख कर खुश हो जाता मेरे मन में उसके लिए वासना भरी जा रही थी फिर एक दिन कुछ ऐसा हुआ जिसका सब बदल गया हम लोग साथ बैठे डिनर कर रहे थे तभी पिंकी ने कहा-

पिंकी: पापा मुझे आपसे एक एहसान चाहिए।

मुख्य: क्या चाहिए बेटा?

पिंकी: पापा हमारे कॉलेज का ट्रिप दुबई में जा रहा है। मुझे भी जाना है 6 दिन का ट्रिप है और 60000 फीस है।

मुख्य: 60000 ये तो बहुत ज्यादा है बेटा। इतना हम अफोर्ड नहीं कर सकते।

पिंकी: प्लीज़ पापा मुझे शायद ही ये मौका दोबारा मिले। प्लीज मैनेज कर लो ना

मैं: सॉरी बेटा लेकिन ये नहीं हो सकता।

शीतल: पिंकी पापा ने बोला ना कि नहीं हो सकता मतलब नहीं हो सकता। जब खुद कमाओगी तो वहां मर्जी घूम लेना।

ये सुन कर पिंकी चुप हो गई और डिनर करके चुप-चाप अपने कमरे में चली गई।

2 दिन बाद शीतल को अपनी किसी दोस्त की पार्टी में जाना था तो वो वाह चली गई मैं और पिंकी घर पर ही हैं मैं अपने कमरे में बैठा टीवी पर समाचार देख रहा था। तभी पिंकी मेरे कमरे में आई। मैं बिस्तर पर बैठा था वो मेरे पास आई और बोली-

पिंकी: पापा एक रिक्वेस्ट है

मैंने टीवी बैंड किया और बोला: हां बोलो बेटी।

पिंकी: पापा वो दुबई ट्रिप पर हैं

अभी वो आगे बोल ही रही थी कि मैं उसकी बात काट-ते हुए बोला-

सौतेली बेटी को रंडी बना कर चोदा

मेरी सास ने मेरी कामवासना को संभाला-Antarvasna

मुख्य: बेटा मैंने बोला था ना कि हम इतना महंगा ट्रिप अफोर्ड नहीं कर सकते अब तुम बार-बार वही पूछोगी तो मुझे भी बुरा लगेगा।

पिंकी ने नीली जींस और लाल टॉप पहना था उसकी टॉप वी-नेक थी तो उसकी क्लीवेज नज़र आ रही थी उसकी क्लीवेज में उसकी चेन का लॉकेट फंसा हुआ था जो कमाल का लग रहा था मेरी नज़र उसकी क्लीवेज पर ही टिक गई पिंकी ने भी मुझे उसकी क्लीवेज देखते हुए देख लिया। फ़िर वो बोली-

पिंकी: पापा अगर आप मुझे दुबई ट्रिप के लिए पैसे दोगे तो मैं भी आपका फैदा कर सकती हूं।

मुख्य: कैसा फ़ैदा?

पिंकी: मैंने देखा है कि मम्मी आपको कुछ करने नहीं देती। और जहां तक मैं जानती हूं वो करने भी नहीं देंगी मम्मी का तलाक भी इसी वजह से हुआ था।

उसकी बात सुन कर मैं हेयरन रह गया।

पिंकी: लेकिन अगर आप मुझे ट्रिप के लिए पैसे दोगे तो मैं आपके लिए वो सब कर सकती हूं जो आप चाहते हैं।

ये बोल कर पिंकी ने अपना टॉप उतार दिया अब वो मेरे सामने ब्रा और जींस में थी उसका बदन इतना सेक्सी था मैं क्या ही बताउ मेरी तो आंखें फटी की फटी रह गई।

अब पिंकी मेरे सामने जींस और ब्रा में खादी थी बहुत सेक्सी थी वो अब जवान कॉलेज की लड़की आपको पैसे के बदले में अपना जिस्म ऑफर कर रही है तो आप क्या करोगे क्या अपने आप पर काबू कर पाओगे? जवाब है “नहीं कोई काबू नहीं कर पायेगा

मेरे साथ भी ऐसा ही कुछ हुआ मेरा लंड खड़ा हो गया और मैंने आगे बढ़ कर उसकी गर्दन पर हाथ रखा जैसे ही मैंने उसकी गर्दन पर हाथ रखा उसने अपनी आंखें बंद कर ली पिंकी खुद को मुझे सौम्पने के लिए तैयार थी।

मैं उसकी गर्दन से हाथ फेरते हुए नीचे आने लगा पहले मैंने उसकी क्लीवेज पर हाथ फेरा और फिर उसके स्तन पर हाथ रख कर दबाया क्या कडक स्तन थे उसके एक-दम ज़बरदस्त।

फिर मैं उसकी कमर पर आया और हाथ पीछे की तरफ ले गया मैंने हाथ उसकी गांड पर रखा और उसको ज़ोर से दबाया इसे उसकी आह निकल गयी फिर मैंने हाथ उसकी कमर पर रखा और उसको अपनी तरफ खींच लिया।

अब उसके चेहरे और मेरे चेहरे के बीच सिर्फ एक उंगली का फैनसला था हम दोनों की सांसें आपस में टकरा रही थीं उसकी सांसों की भीनी-भीनी खुशबू मेरे लंड को और ज्यादा मजबूत कर रही थी।

फिर मैंने अपने होठों से चिपका दिया और उसके होठों का रस चुनने लगा वो भी मेरा साथ देने लगी मैं किस करते हुए उसकी नंगी पीठ पर हाथ फेरने लगा और साथ ही मैंने उसकी ब्रा का हुक खोल दिया।

तकरीबां 10 मिनट हमारी चुम्मा चली फिर जब हमने तोदी को चूमा तो डोनी की सांसे फूली हुई थी किस तोड़ कर जैसे ही हम अलग हुए उसकी ब्रा स्तन से अलग होके नीचे गिर गई। अब उसके 2 रस के प्याले मेरी आँखों के सामने थे।

जवानी नंगी चूंचियाँ और एक-दम टाइट मैंने उसके एक उल्लू को मुँह में भर कर चुनना शुरू कर दिया और दूसरे उल्लू को दूसरे हाथ से मसलने लग गया। वो कामुक आहें भरने लगी और मेरे बालों को अपने हाथों से सहलाने लगी। एक बात तो पक्की थी कि ये पिंकी का पहला सेक्स नहीं था।

स्तन चूस-चूस कर लाल करने के बाद मैंने उसको बिस्तर पर लिटाया और उसके नीचे के कपड़े भी उतार दिये। अब पिंकी मेरे सामने पूरी नंगी थी। उसकी चूत पर बहुत हल्के बाल थे जो शेव करने से 2 या 3 दिन बाद के होते हैं।

उसकी चूत गुलाबी रंग की थी शायद इसीलिए हम पर पिंकी नाम सूट करता है। मैंने उसे पेट कर किस करना शुरू किया और अभी तक किस करते हुए आया। फिर मैंने अपनी जिह्वा को अंदर डाल कर चाटना शुरू किया। वो ये सब महसूस करके हल्के-हल्के कराह रही थी।

फिर मैं जिभ फेरते हुए उसकी चूत पर आया और उसकी चूत पर अपनी जिभ फिराने लगा। जैसे ही मैंने उसकी चूत पर अपनी जीभ लगाई वो सिसक गई। फ़िर मैंने ऊपर से नीचे जीभ फिरा कर उसकी चूत चाटनी शुरू कर दी।

उसने अपनी तांगे खोल दी ताकि मैं उसकी चूत को अच्छे से चाट सकूं। मैं उसकी चूत के मुँह को दांतो से खींचने लगा और उसके दाने को चुनने लगा। वो तो जैसा पागल ही हो गई थी मजे से।

तभी उसकी चूत ने माल का एक जबरदस्त धक्का छोड़ा जो सीधा मेरे मुँह में गया। मैंने उसका माल सारा पी लिया। अब मेरी बारी थी मजा लेने की मैंने अपने कपड़े उतारे और उसको लंड चुनने को बोला।

अब मैं बिस्तर पर लेता हुआ था और वो मेरे ऊपर 69 पोजीशन में आके मेरा लंड चुनने लग गई। किसी प्रोफेशनल की तरह वो मेरा लंड चूस रही थी। चुनना ही था इतने पैसे तो चाहिए थे।

कुछ देर लंड चुसवाने के बाद मैंने उसको लंड अंदर लेने को कहा। फ़िर वो सीधी होके मेरे लंड पर बैठ गयी। उसने लंड पकड़ कर अपनी चूत के मुँह पर रखा और धीरे-धीरे ऊपर बैठने लगी।

मेरा लंड उसकी गरम और टाइट चूत में जा रहा था और मुझे बड़ा मजा आ रहा था। मैं भी ऊपर की तरफ ज़ोर लगा कर लंड अंदर कर रहा था। कुछ ही सेकंड में मेरा पूरा लंड पिंकी की चूत में चला गया।

पिंकी को थोड़ा दर्द भी हो रहा था और मजा भी आ रहा था। फिर उसने धीरे-धीरे लंड पर ऊपर-नीचे होना शुरू किया। मैंने उसके चूतादों पर हाथ रखा और उसको लंड पर ऊपर-नीचे होने में मदद करने लगा।

अब उसकी चूत पूरी तरह से एडजस्ट और गीली हो चुकी थी। तो उसने अपनी उछाल की स्पीड बढ़ाई। उसने मेरी छाती पर हाथ रख लिया और तेजी से अपनी चूत में मेरा लंड लेने लगी। साथ-साथ वो आह्ह आह्ह की आवाज भी निकल रही थी।

मुझे और ज़ोर से उसको चोदना था। तो मैंने उसको नीचे लिटाया और खुद उसके ऊपर आके अपना लंड उसकी चूत पर रगड़ने लगा। वो पूरी तरह से मदहोश हुई पड़ी थी चूत की गर्मी में।

सौतेली बेटी को रंडी बना कर चोदा

मुस्लिम गर्ल की सील तोड़ी होटल में-First Time Sex Story

फिर मैंने ज़ोर का धक्का मार कर अपना पूरा लंड उसकी चूत में घुसा दिया। उसकी ज़ोर की गाल निकली और मैंने लंड अंदर-बाहर करना शुरू कर दिया। उसके होठों को चूमते हुए मैं फुल स्पीड में उसको चोदने लगा।

पूरा बिस्तर हिल रहा था जब मैं उस जवान लड़की की ठुकाई कर रहा था तो। 15 मिनट उसको चोदने के बाद मैंने अपना माल उसकी चूत में ही निकाल दिया। फिर मैं कुछ देर उसे ऊपर ही लेता रहा। कुछ देर बाद हम दोनों अलग हुए और अपने कपड़े पहनने लगे।

फिर मैंने पिंकी को 60000 दे दिए। उस दिन के बाद से जब भी उसको पैसे चाहिए होते हैं तो वो मुझसे चुदती है।

दोस्तों कहानी का मजा आया हो लाइक और कमेंट जरूर करें।

 

By tharki

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *