दोस्त की शादी में नौकरानी को ठोका

हेलो दोस्तो चलिए सीधे स्टोरी पर चलते हैं बिना देर किये। वैसे मेरे बारे में बता दूं। मैं पुणे से हूं, और एक एवरेज बंदा हूं। क्या कहानी की नायिका है मेरे दोस्त की कामवाली, जिसके साथ मैंने 2 घंटे सुकून से बिताए, और हमने जो किया वो आप लोग आगे पढ़ लो।

बात पिछले साल की है फरवरी 2023 की। मेरे दोस्त की शादी फिक्स हुई, और उसकी शादी महाबलेश्वर में एक होटल में होने वाली थी। हम सब दोस्त बहुत उत्साहित थे, और शादी का फंक्शन 2 दिन का था। इसलिए वहां रहने वाला था. हमने सारा बंदोबस्त कर लिया था पीने का, और अब हमारी यात्रा शुरू होने वाली थी।

दोस्त की शादी में नौकरानी को ठोका

साली को बनाया मोटे लंड का दीवाना-Jija Sali Sex Story

महाबलेश्वर ज्यादा दूर नहीं, इसलिए हम सुबह 8 बजे दोस्त के घर से बस में निकले, जो पहले से ही यात्रा कर रहा था, उसके लिए किताब बुक की थी। उसके सारे रिश्तेदार आगे बैठ गए, और हम सब दोस्त मस्ती करने के पीछे।

हम पीछे मज़ाक मस्ती कर रहे थे, तब मेरी नज़र 1 आंटी पे पड़ी। उसकी उमर होगी कुछ 31-32 की, और रंग सांवला था। पर उसके स्तन देख के दिल खुश हो गया। साड़ी के नीचे से उसके स्तन क़यामत ढा रहे थे, और तभी मेरा लंड सलामी देने लग गया।

यात्रा शुरू हुई, तभी दोस्त बोले चलो अंताक्षरी खेलते हैं मैं भी उनके साथ जुड़ गया था। अब सबका ध्यान हम पर था, क्योंकि ज़ोर-ज़ोर से गाने की आवाज़ आगे जा रही थी। हम सब दोस्त एक तरफ और दूल्हे के घर वाले एक तरफ। जब गाना चल रहा था तब वो भी हमें देख रही थी, पर तभी कोई हलचल नहीं हुई।

गाने-गाने में दूल्हे की चचेरी बहन देख के मुस्कुराने लगी। मन ही मन खुश होके मैं बोला शायद इसकी छुट्टी मिल जाए तो शादी में मजा आ जाए। पर वो भी एक अलग कहानी है, जो अगली बार बताऊंगा। फिर जब वो आंटी देख रही थी, तो मैंने दूल्हे से पूछा-

मैं: भाई ये कौन है?

तो उसने बताया कि वो उसकी नौकरानी थी, पर घर जैसी ही थी। पूछने पर पता चला उसका नाम रेखा था। अब मैंने सोचा माल तो अच्छा लग रहा था, इसको पता लो। मैंने सोचा वो शादी भी देख रही थी, और भूलभुलैया भी अच्छी देगी।

ऐसी ही 2-2:30 घंटे निकल गए, और हम लोकेशन पर पहुंच गए। सब लोग उतारने लगे. हम सबसे आखिर में थे, इसलिए देर नीचे उतरे। उतरने के बाद मैं रेखा को ढूंढ रहा था, तो वो दूल्हे की मां का बैग लिए खड़ी थी। तब मैंने उसको ठीक से देखा स्तन, गांड, पतला कमर सब लंड खड़ा करने वाले थे।

मैं उसको घूर रहा था, तभी उसने मुझे देख लिया और मैंने उसको देख के एक मुस्कान दे दी। पहले उसने थोड़ा गुस्से में देखा, लेकिन फिर वो भी हंस दी। मैंने सोचा, चलो काम हो सकता है। वाहा सबको रूम दे रहे थे रहने के लिए। हम तीन दोस्तों को एक रूम मिला, और हमारा रूम चौथी मंजिल पर था।

हम लोग रूम में चले गए, और फ्रेश होके बैठे रहे। दोस्तों ने चुपके से व्हिस्की की बोतल निकाली, और छोटा-छोटा पैग बना लिया। एक-एक पैग मार के हम लोग बाहर निकले, और लिफ्ट की तरफ जाने लगे। तभी वहां से रेखा कमरे से बाहर आई, और वो भी नीचे हॉल में जा रही थी।

मैंने दोस्तों को कुछ नहीं बताया था, और हम लोग नीचे हॉल में पहुंचें जहां स्नैक्स रखे थे, और संगीत कुछ देर में शुरू होने वाला था। मैं स्नैक्स लेके एक कुर्सी पर बैठ गया और दरवाजे से रेखा को ताड़ रहा था। तभी उसने मुझे देख लिया, और स्माइल पास कर दी।

मैं समझ गया कि कुछ हो सकता है। संगीत का फंक्शन 10 बजे तक चलने वाला था, और देर रात तक सभी को बाहर घूमना था। मैंने सोचा कुछ तो जुगाड़ लगाना पड़ेगा, आज की रात कुछ तो करके ही शांत बैठेंगे।

फिर मैंने स्नैक्स ख़त्म किये, और मोबाइल निकाल कर रेखा के पास चला गया मैंने फर्जी कॉल पर बात करते हुए उसको पता लगाना चाहा। मैं उसके थोड़े पास गया, जहां से उसको मेरी आवाज मिली, सुनाई दे और मैं ऐसे ही बोलने लगा, “यार कुछ करने का मन है, तुम्हारा भी है तो मिलने का प्लान बनाओ”। उसने ध्यान नहीं दिया. मैं बार-बार रिपीट कर रहा था। फिर उसको समझ आ गया कि उसके लिए ही था सब।

मैंने आगे बोला: यहां आवाज नहीं आ रही है बहुत शोर है। मुख्य कमरे में जाके बात करता हूं.

 

और मैंने उसको आँखों से इशारा किया और ऊपर चलने को बोला। बहुत हिम्मत करके मैं वहां से निकल गया और लिफ्ट से चौथी मंजिल पर आके रुक गया कमरे के बाहर।

मैं अब लिफ्ट को देख रहा था। 5 मिनट बाद लिफ्ट ग्राउंड फ्लोर से ऊपर आने लगी। मैंने सोचा कौन होगा क्या पता. मैं थोड़ा देख रहा हूं और लिफ्ट का दरवाजा खुला। हमसे रेखा बहार आयी और मेरे पास आके बोली-

रेखा: क्या चाहिए?

मैंने कहा: बोर हो रहा है. क्या हम लोग दोस्तों बन के कुछ बातें करते हैं?

दोस्त की शादी में नौकरानी को ठोका

मेरी कुँवारी चूत और उसका बड़ा लंड-Hindi Sex Story

तो वो बोली: हां दोस्तों बैन लग गया है. पर ज्यादा समय नहीं है, वरना दूल्हे की मां ढूंढती आएगी।

मैं बोला: चलो मेरे कमरे में बैठ कर बातें करें।

उसने पूछा: वाह कौन-कौन है?

मैंने कहा: अभी तो कोई नहीं है। सब नीचे फंक्शन में ही है.

तो उसने बोला: कोई आएगा और देखेगा तो गलत समझेगा।

मेरे कमरे में कोई नहीं है. मुझे अकेली को वो रूम दिया है। वाह बैठे है.

मैने कहा: ठीक है.

कमरे में जाते ही मैंने उसको बोला: ऊपर आने के लिए धन्यवाद।

तो उसने बोला: वो सब तो ठीक है, तुम मुझे घूर क्यों रहे हो सुबह से?

मैंने समय बर्बाद नहीं किया और सीधा बोल दिया: तुम अच्छी लगी हो, इसलिए देख रहा था।

उसने कहा: पक्का यही है?

मैंने उसका हाथ पकड़ा और कहा: हां मुझे तुम पसंद आयी।

तो उसने हाथ छुड़ाया और कहा में शादी सुदा हु मैं ये सब नहीं कर सकती.

मैंने कहा: यहां कोई नहीं है, ना मैं किसी को बताने वाला हूं। आपको सही लगे तो करते हैं, वरना ऐसा ही ठीक है।

शादीशुदा आंटी की एक बात अच्छी होती है। उनको ज्यादा समझाना नहीं पड़ता। वो सीधा एक्शन में रुचि रखती है। मैंने सीधा उसको गले लगाया, और टाइट पकड़ा। पहले उसने थोड़ा नाटक किया, फिर शांत हुई, और उसने भी गले लगा लिया। मैंने उसके गाल पे हल्का सा एक किस किया, तो वो शर्मा गई। मैंने सोचा यही सही समय था, तो शुरू हो जाओ।

फिर मैंने उसके होंठों पर अपने होंठ रख दिये। उसने प्रतिक्रिया नहीं दी। मैंने फिर भी किसिंग जारी राखी। फिर वो गरम हो गई, और वो भी अब किस करने लग गई। गरम होंथ उसका मेरा लंड टाइट कर रहे थे. मैंने टाइम ना गवाते हुए उसके कमर में हाथ डाला, और ब्लाउज पे से ही उसके स्तन दबा रहा था। वो गरम हो रही थी, और मुझे ज़ोर से दबा रही थी।

मैंने उसके होंठ छोड़ दिए, और उसकी गर्दन पर चुंबन करने लगा। फ़िर अपनी जिह्वा उसकी बगीचे पे घुमने लग गया। अब वो गरम हो चुकी थी, इसलिए विरोध नहीं कर रही थी। मैंने अब उसका पल्लू गिरा दिया, और उसका ब्लाउज खोल के निकाल दिया। उसकी सफेद ब्रा और स्तन मेरे सामने आ गये। मैंने ब्रा को खींचा, और स्तन चाटने और चुनने लग गया। वो भी साथ देने लगी थी.

तभी मैंने उसका ब्रा खोल दी, और उसके स्तन आज़ाद कर दिये। मस्त स्तन उसके. मेरे पूछने पर उसने 34″ साइज का बटाया। मैंने भूलभुलैया से उसके स्तन चुन लिए, और दबाने लगा। इसी बीच उसने मेरी टी-शर्ट उतारी, और हम आधे नग्न होकर गले मिलने लगे।

देखते ही देखते मैंने उसको बिस्तर पर ढकेल दिया, और उसकी साड़ी खोल दी। फिर उसके पेटीकोट में हाथ डाल के उसकी निक्कर खींच ली। अब वो सिर्फ पेटीकोट में लेती हुई थी। मैंने उसको पहले 3 मिनट का किस किया, और नीचे आके सीधा अपना मुँह उसकी चूत पे लगा दिया।

जैसी पहली बारिश से मिट्टी की खुशबू आती है, वैसी औरतों की गीली चूत की खुशबू आती है। मैंने उसकी चूत को थोड़ा खोला, और अपनी जीभ से उसकी चूत चाटने लग गया। चूत गीली थी, इसलिए मज़ा भी आ रहा था। ऐसे ही चूज़े-चूस्ते मैंने उसका एक बार पानी निकाल दिया। अब वो शांत हो गई.

फिर मैं बाहर निकला उसके पेटीकोट से, अपना मुंह साफ किया, और उसके सामने खड़ा हुआ। अब वो मेरा इशारा समझ गई थी। उसने मेरी जीन्स खोली, और मेरे लंड को अपने हाथ में लिया, और अपना मुँह खोल के उसने मेरा लंड चुनना शुरू किया। अब मैं नंगा हो गया था, और वो पेटीकोट में थी।

उसने मेरा लंड चूस-चूस के खाली कर दिया। अब हम दोनों पड़े रहे बिस्तर पर, और एक ज़ोरदार किस करने लगे।

उसने बोला: सिर्फ इतना ही करना है, या चूत में जो आग लगी है उसको भी शांत करोगे?

मैंने उसका पेटीकोट भी उतार दिया। फिर उसकी जोड़ी फेलाई, और उसकी चूत पर मुँह रख दिया, और अब मैं उसकी चूत और गांड दोनों चाट रहा था। उसको मजा आने लगा। मैने तभी उसको पूछा-

मैं: जानेमन तुम्हारा साइज क्या है?

टैब उसने बोला 34-32-36. सोचो दोस्तों ऐसा मस्त माल सामने नंगा पड़ा है। देखते ही मेरा लंड फिर टाइट हो गया, और मैंने चाट कर उसकी चूत गीली कर दी थी। अब मैंने मेरा लंड पकड़ा, और उसकी चूत पर सेट किया। फिर एक अच्छा धक्का लगया, और लंड चूत को मजा आ गया। थोड़ा टाइट लगा. शायद 3-4 महीनो बाद चुद रही हो।

उसने मुझे अपना ऊपर खींचा, और मेरा लंड अंदर घुस गया था। अब मैं मिशनरी पोजीशन में चोद रहा था। उसको मजा आ रहा था. दारू की वजह से लंड अब जल्दी पानी नहीं छोड़ने वाला था। तो मैं चोद रहा था. तब वो झड़ गई और बोली-

रेखा: जानू मजा आ रहा है, चोद मुझे चोद.

उसकी गरम चूत अब कयामत ढा रही थी। मैंने तभी उसको बोला-

मुख्य: चलो डॉगी बन जाओ।

और वो अपनी गांड उल्टी करके बैठ गयी। मैंने पीछे से उसकी चूत में लंड लगाया, और अंदर डाल दिया। डॉगी पोज़ साला होता कमाल का है। मैंने लंड अंदर डाल के स्ट्रोक मारना शुरू रखा। 15 मिनट बाद मेरा होने वाला था, तो मैंने बोला-

मैं: काहा निकलु, मेरा होने वाला है?

दोस्त की शादी में नौकरानी को ठोका

बाप ने बेटी की कुंवारी चूत चोदी-Baap Beti Ki Chudai

तो उसने कहा: बाहर निकलो, अंदर मत डालना।

मैंने 5-6 स्ट्रोक मारे, और उसको सीधा किया। फिर लंड पकड़ के उसके बूब्ज़ पर माल गिरा दिया। वो संतुष्ट लग रही थी, और मैं थक गया था। देखते-देखते 2 घंटे हो चुके थे. मैंने कपड़े पहने, और अपने कमरे में आके शॉवर ले लिया। फिर एक पैग लगा के नीचे फंक्शन में गया। कुछ देर बाद वो भी नीचे आ गई। उसके चेहरे पर एक मुस्कान थी संतुष्टि वाली।

दोस्तों ये थी रेखा की कहानी। अगर आपको कहानी पढ़ने में मजा आया हो, तो दोस्तों को भी शेयर करें।

By tharki

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *