बड़ी साली है लाजवाब मारली उसकी गांड

हॉट साली चुदाई का मौक़ा मुझे तब मिला जब मैं काम के सिलसिले में ससुराल के घर में रहता था. मेरी पत्नी की बड़ी बहन काफी दिनों से वहीं रह रही थी.

प्यारे मित्रो, आज आपके सामने मैं एक मस्त हॉट साली चुदाई कहानी सुना रहा हूँ.

दूरियां कब किसे कैसे मिला दें, ये किसी को पता नहीं होता.

मेरे साथ भी कुछ ऐसी ही सच्ची घटना हुई है.

मेरा नाम दीप है, मैं मुज़फ्फरनगर उत्तर प्रदेश का रहने वाला हूँ.

ये जो घटना है, कुछ चार साल पहले की मेरे और मेरी बड़ी साली मीता के बीच की चुदाई कहानी है.

बड़ी साली है लाजवाब मारली उसकी गांड

ऑफिस की लड़की चुदी दारू के चक्कर में-Office Sex Story

मैं उस समय अपनी सुसराल में रहकर अपना काम करता था और कभी कभी ही घर जा पाया करता था.

मेरी बड़ी साली अपने पति से किसी बात पर झगड़ा करके अपनी मां के घर आ गयी थी.

उस समय मैं भी वहीं पर रहता था.

कभी भी आज तक उससे कभी भी मेरी कोई ख़ास बात नहीं हुई थी.

लेकिन जब ऊपर वाले को मिलाना होता तो वो कोई ना कोई घटना पैदा कर देता है.

एक दिन में अपने काम से रात को देर से अपनी ससुराल पहुंचा.

रात काफी हो गयी थी इसलिए सब सो गए थे.

लेकिन बड़ी साली साहिब जगी हुई थीं और एक बंद कमरे में थीं.

भूलवश या जानबूझ कर कमरे की कुंडी नहीं लगा रखी थी.

मुझे कुछ नहीं पता था.

मैं स्वभावत: सीधे घुसता चला गया और कमरे में दाखिल हो गया. मैं क्या देखता हूं कि मेरी बड़ी साली साहिबा बिना वस्त्रों के बेड पर लेट कर अपनी चूत में उंगली आगे पीछे कर रही थीं और अपनी मस्ती में मस्त होकर उस पल का मज़ा ले रही थीं.

मेरे कमरे में आने पर भी उनके क्रियाकलाप में कोई फर्क नहीं आया और न ही उन्हें मुझे आया देख कर कुछ शर्म आई.

वो मुझे देखकर बड़ी सरलता से अपनी चूत से उंगली निकाल कर मुँह में लेकर चाटने लगीं और मस्ती से उठ खड़ी हुईं.

वह अपनी नाइटी पहन कर ये कह कर कमरे से बाहर निकल गयी- आप हाथ मुँह धो लो, मैं खाना लगा देती हूं.

मुझे ये सब देखकर बहुत ही आश्चर्य हुआ कि ये किस तरह की बेबाकी थी.

उस रात बात आई गई हो गई.

अगले दिन मुझे कहीं बाहर नहीं जाना था तो मैं सुबह देर से उठा.

तब तक सासु मां किसी रिश्तेदार के घर शाम तक वापस लौटने की कह कर चली गईं.

मेरे पास आज सुनहरा मौका था तो मैंने बड़ी साली से कल रात वाली बात को छेड़ दिया.

साली जी ने मुझे अपनी पूरी कहानी बताई.

मैंने पूछा- जब रात को मैं कमरे में आ गया था तो तुम मुझसे घबराई क्यों नहीं?

इस पर उसने बताया- मैं तुम्हारे बारे में सब जानती हूं कि तुम ही मेरी सभी समस्यों का समाधान कर सकते हो. इसलिए कल रात तुम्हारा इंतजार करते करते बहुत देर हो गयी थी. मेरी आग बढ़ती जा रही थी और तुम आए नहीं थे. उस वक्त मैं अपने बस में नहीं थी, इसलिए उंगली करने लगी थी. अब तुम मेरी प्यास बुझा दो.

मैंने कहा- ये मैं तुम्हारे साथ कैसे कर सकता हूँ. तुम्हारी बहन को पता चल गया तो वो क्या सोचेगी?

उसने कहा- उसे मालूम कैसे पड़ेगा. फिर यदि उसे कुछ पता चल भी गया तो मैं अपनी गलती कह कर तुम्हें सेफ कर दूंगी.

मैंने कहा- वो तो सब ठीक है लेकिन पता नहीं, मेरी बीवी क्या सोचेगी.

उसने कहा- एक दिन इत्तफाक से तुम्हारी और मेरी फोन पर बात हुई तो तुमने कहा था कि अगर किसी की भलाई करने के लिए मुझे किसी से भी लड़ना पड़ेगा, तो मैं पीछे नहीं हटूंगा. उसी बात को लेकर मैं आज यहां तुम्हारे पास आई हूँ. मुझे पता है तुम मुझे मना नहीं करोगे.

उसकी ये बात सुनकर मैंने उससे कुछ समय मांगा.

उन दिनों कुछ ऐसा हुआ कि मेरे पास बाहर जाने का कोई काम ही नहीं निकला और मैं समय से घर आने लगा.

उन दिनों उसका भी मूड बना हुआ था तो वो भी कभी मेरे लंड को टच कर देती तो कभी मेरी पीठ से अपने मम्मे रगड़ देती.

कहने का मतलब ये कि वो मुझसे लिपटी जा रही थी.

फिर मैं भी एक इंसान हूँ, कब तक अपने को संभाल कर रखता.

एक दिन मेरी सास को अपने बड़े बेटे के पास कुछ दिनों के लिए जाना पड़ा.

अब तो मुझे अपनी साली को भोगने का समय मिल गया था.

उनके जाने के बाद अपनी साली से बात की- मैं तुम्हारे साथ हमेशा रहूँगा, पर मेरी एक शर्त है आज की रात तुम एक नई दुल्हन की तरह से तैयार मिलोगी और मुझे कुछ भी करने से नहीं रोकोगी.

उसने मेरी तरफ मुस्कुरा कर देखा.

वो बोली- जरूर डार्लिंग आज मैं तुमको हर तरह से रेडी मिलूंगी.

मैंने कहा- इस बात को याद रखना जान … कहीं मुकर न जाना.

वो विस्मय से मरी तरफ देखने लगी- इस बात का क्या मतलब हुआ डार्लिंग?

मैंने कहा- कोई ख़ास बात नहीं है जान. बस तुम्हारा यदि मन हो, तो क्या हम दोनों दो दो पैग का मजा ले सकते हैं?

वो हंस दी.

बड़ी साली है लाजवाब मारली उसकी गांड

भाभी की चूत में गिराया लंड का पानी-Bhabhi ki Chudai

मैंने समझ लिया और जल्द आने का वादा करके जाने लगा.

मैं- मैं अभी कुछ समय के लिए बाहर जा रहा हूँ, समय से पहले आ जाऊंगा. तुम तैयार रहना.

उस दिन मैं पूरे दिन बाहर रहा ताकि उसकी बेचैनी और बढ़ सके.

मैं रात को भी जानबूझ कर देर से आया.

कमरे में जाकर देखा, वो पलकें बिछाए दुल्हन बनकर मेरा इंतज़ार कर रही थी.

मेरे आते ही उसने शिकायत की- दिन भर कहां रहे?

मैंने कहा- अपनी नई दुल्हन के लिए गिफ्ट लेने गया था. अब आते ही कुछ खाना-पीने की भी पूछोगी या सवाल ही करने का मूड है.

वो हंस दी और बोली- मैं अभी खाना लगाती हूँ.

मैंने जेब से एक हाफ निकाला और कहा- वादा भूल गई क्या?

वो हंस दी और गिलास नमकीन ले आई.

हम दोनों ने दो दो पैग खींचे और उसके बाद उसने खाना लगा दिया.

फिर हम दोनों ने पहले कुछ पेट पूजा की और अब उसे चोदने कि बारी आ गई थी.

मैं उसे अपनी गोद में उठा कर कमरे में ले गया.

उसे बिस्तर पर बिठा कर मैंने पहले उसे कुछ बातें की, उसका दिल बहलाया.

इसके बाद मैं सबसे पहले उसको मुँह दिखाई में एक गोल्ड चैन दी.

जिसे पाकर उसने मेरे चेहरे पर चुम्मियों की बौछार कर दी.

हम दोनों के होंठ आपस में मिल गए.

हमारी ये किस काफी लंबी चली.

इसी बीच में मैंने उसकी साड़ी ब्लाउज पेटीकोट सब उतार कर उसे पूर्ण नग्न कर दिया.

साथ में मैंने अपने कपड़े भी उतार दिए और सिर्फ अंडरवियर में रह गया.

अपनी साली के होंठों का रसपान करते हुए मैं धीरे धीरे नीचे आता गया.

गर्दन के नीचे आया तो मैंने उसकी 36 इंच की मस्त चूचियों के निप्पलों को पीना शुरू कर दिया.

वो इस्स इस्स करके मुझे अपने दूध चुसवा रही थी.

मैंने बारी बारी से उसके दोनों चूचों के रस को निचोड़ कर मजा लिया.

फिर नीचे आते हुए उसकी नाभि में जीभ चलाकर उसकी बेचैनी इतनी ज्यादा बढ़ा दी कि उसने अपने हाथ को मेरे लंड पर रख दिया.

वो मेरे लंड को अंडरवियर से निकाल कर सहलाने लगी जिससे मेरी भी आह निकल गयी.

फिर धीरे धीरे नीचे होते हुए उसकी रसदार चूत पर अभी जीभ फिरा दी.

वो एकदम से उछल गई और मैं चूत को ऊपर ही चाटने लगा.

इतने में ही उसकी चूत ने अमृत की धारा बहा दी.

फिर मैं उसकी टांगों के बीच में आ गया और टांगों को फैलाकर अपनी जीभ से उसकी चूत की फांकों को खोलकर उसमें अन्दर बाहर करने लगा.

वो एकदम से कसमसा उठी और मेरे सिर को अपनी चूत में दबाने लगी.

कुछ ही पलों में वो अपनी गांड उठा कर दोबारा से अमृत धारा छोड़ने लगी.

मैंने चाट चाट कर उसकी चूत के पानी को पीकर साफ कर दिया और उठ कर उसके होंठों को चूसने लगा.

उसके होंठों से होंठ लगाकर मैंने उसे उसकी चूत के अमृत का रस पिलाया.

वो अपनी चूत का रस पीकर मस्त हो गयी.

अब मैंने अपने लंड को उसके सामने कर दिया और उसे लंड चूसने के लिए तैयार किया.

थोड़ी देर तो ना नुकुर करती रही मगर फिर मान गई.

जब उसने मेरे लौड़े को चूसना शुरू किया तो मैं जनन्त में पहुंच गया.

अब मेरा लौड़ा अपने शवाब पर था.

मैंने बिना बताए अपना वीर्य उसके मुँह में भर दिया, जब तक उसके गले में नहीं उतरा, तब तक मैंने लौड़े को उसके मुँह में डाला रखा.

उसने इस बात पर बहुत गुस्सा किया लेकिन मेरे समझाने पर वो मान गयी.

दोनों का एक एक बार झड़ जाने के बाद मैं उसको अपनी बांहों में भर कर लेट गया और उसके होंठों का रसपान करने लगा.

उसकी चुचियों के निप्पलों को मरोड़ने लगा. कुछ ही देर में वो दोबारा से तैयार होने लगी.

मैं एक हाथ से दूध मसल रहा था और दूसरे हाथ से उसकी चूत के दाने को मसलने लगा.

वो और पागल सी होकर अपने हाथों से मेरे लंड को सहलाने लगी, जिससे लंड पहले से और ज्यादा कड़क हो गया.

फिर मैंने देर करना उचित नहीं समझा, उसे बिस्तर में बीच में लाकर उसकी गांड के नीचे तकिया लगाकर चुदाई की पोजीशन बना ली.

मैंने उसकी टांगों को फ़ैलाया और उसके बीच में आ गया. अपने लंड को उसकी चूत के ऊपर बार बार रगड़ कर उसे बेचैन करने लगा.

वो लंड के स्पर्श से आनन्द में आ गई थी.

तभी मैंने बिना बताए एक करारा धक्का लगाकर पूरा लंड एक बार में उसके भीतर पेल दिया.

लंड उसकी बच्चेदानी से टकरा गई; उसकी एक तेज कामुक चीख निकल गई.

अगर उस समय घर पर कोई होता तो वो चीख सुनकर पक्का कमरे में आ जाता.

मेरे लंड ने भीतर जाने के बाद उसके दर्द को बहुत बढ़ा दिया था.

उसके दर्द को खत्म करने के लिए मैंने उसके होंठों को चूसना शुरू कर दिया और उसके चूचियों के निप्पल को मसलने लगा.

कुछ ही देर में उसका दर्द सिसकियों में बदल गया. अब मैं धीरे धीरे चूत में लंड के धक्के लगाने लगा.

जब उसने गांड उठा कर खुद धक्के लगाने का अहसास दिखाया.

फिर मैंने अपने धक्कों की रफ्तार तेज कर दी जिससे लंड के धक्कों से उसकी सिसकारियां चीखों में बदल गयी.

लगातार 20 मिनट तक ताबड़तोड़ चोद कर उसके झड़ने की बेला आई तो उसने मुझे अपनी भुजाओं में एक बहुत मजबूती से जकड़ लिया और अपनी चूत की धारा से मेरे लंड को भिगोती हुई निहाल हो गयी.

बड़ी साली है लाजवाब मारली उसकी गांड

कामवाली की मस्त जवान चूत की चुदाई-Kamvali ki Chudai

उसके कुछ देर बाद मैं भी उसकी चूत में झड़ कर उसके ऊपर लेट गया, उसके होंठों को चूसने लगा.

उसने कहा- आज शादी के इतने साल बाद मुझे चुदाई में मजा आया.

उसके बाद उस रात हमने दो बार और चुदाई की.

फिर उसने अगली रात को गांड में लंड के लिए राजी कर लिया.

दोस्तो, ये मेरी सच्ची सेक्स कहानी है, हॉट साली चुदाई में उसकी गांड में लंड कैसे पेला, इसे विस्तार से लिखूंगा.

आपको मेरी हॉट साली चुदाई कहानी कैसी लगी, मुझे जरूर बताएं और मेरी मेल आईडी पर जवाब दें, मैं इंतज़ार करूंगा.

 

 

By tharki

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *