कामवाली को रंडी की तरह चोदा

हेलो दोस्तो कैसे हो आप सब मैं विशाल उदयपुर (राजस्थान) से हूं मैं इस जीवनशैली में अनुभवी व्यक्ति हूं मुझे परिपक्व उम्र की महिलाएँ ज़्यादा पसंद हैं इसलिए सभी हॉट सेक्सी और मौज-मस्ती पसंद करने वाली महिलाएँ आप मुझे मेल कर सकती हैं मैं हर किसी की निजता का सम्मान करता हूं।

ये बात कुछ समय पहले की है जब मैं हॉस्टल से घर आया था छुट्टियों पर। मैं 20 साल का था मैं पहले से जिम करता था इसलिए मेरी बॉडी काफी फिट और अच्छी है दिखने में मैं एक-दम गोरा हूं और हाइट 6 फीट है चलिए कहानी शुरू करते हैं।

सुबह का समय था इसलिए मैं अपने कमरे में सोया हुआ था मैं हमेशा शॉर्ट्स में ही सोया करता हूं अब आप लोगों को तो मालूम है कि सुबह के समय ब्लड प्रेशर भी हाई होता है इसलिए हमारे कारण से मेरा लंड एक-दम हार्ड हो गया था।

कामवाली को रंडी की तरह चोदा

गदराई साली की गांड में लंड का वार-Jija Sali Sex Story

मैं बता दू मेरा कमरा ऊपर है मतलब दूसरी मंजिल पर तो घर वाले इतना आते नहीं ऊपर तो मैं उठा और अपना लंड एडजस्ट करते हुए बाहर चला गया फ़िर साइड में जा कर अपनी सिगरेट निकाल कर पी ही रहा था कि मुझे महसूस हुआ कि कोई पीछे खड़ा मुझे देख रहा था।

मैं थोड़ा डर गया फिर जैसा ही पीछे मुड़ा एक लड़की खादी थी जिसने बुरखा पहना हुआ था मैंने थोड़ा डरते हुए पूछा मैं कोन हो तुम? और यहाँ क्या कर रही हो नाज़ जी मेरा नाज़ नाज़ है मुझे 1 सप्ताह ही हुआ यहाँ आये हुए जी हम यहाँ काम करते हैं मैं अच्छा ठीक है अगली बार से ऐसे डराना मत सीधी आवाज दे दिया गेट के पास से और क्या-क्या कर लेती हो काम।

नाज़: जी सारा घर का काम कर लेती हूँ और ये बोलते हुए उसने मुझे कॉफ़ी दी सच बोलू तो जैसा ही उसका हाथ टच हुआ मेरा लंड पता नहीं एक-दम हार्ड हो गया और उसने शायद ये देख लिया मैं जल्दी से अपने हाथ से अपने लंड को थोड़ा छुपाते हुए बोला एक काम करो वाह सामने कॉफी रख दो और कमरे में कपड़े रखे हैं नीचे ले जाओ धोने के लिए।

नाज़: ठीक है भैया और ये बोल कर वो नीचे जा रही थी सच बोलो तो कसम से जब वो सीढ़ियों से उतर रही थी उसकी गांड क्या मस्त लग रही थी बहार से ही उसकी पैंटी की लाइन दिख रही थी मुझे कुछ समझ ही नहीं आ रहा था उसको देख कर उसकी उम्र लग रही थी 29 से 31 साल के बीच।

काला बुरखा पहना हुआ था उसने और एक-दम टाइट था उसका फिगर दिख रहा था 34-32-36 साइज का एक दम परफेक्ट टाइप का ये सोचते हुए मैं अपने कमरे में आया और फ्रेश हो कर नीचे आ गया उसका रंग सांवला था थोड़ा मैं सोफ़े पर बैठ कर टीवी देख रहा था और इतनी देर में मेरी नज़र उसके ऊपर पड़ी।

वो नीचे बैठ कर पूछ रही थी। कसम से क्या गांड दिख रही थी उसकी देख कर मन हुआ कि अभी चोद दू उसको लेकिन इतनी देर में मम्मी आ गई और मुझे सामान लाने भेज दिया मैं सामान ले कर 2 बजे तक घर आया लेकिन घर में कोई नहीं था मैंने आवाज़ मारी और इतनी देर में नाज़ आई।

नाज़: भैया वो आंटी कहीं गई हैं बाहर वो बोली आपको खाना देने को उनको थोड़ा टाइम लगेगा आने में मैं: ठीक है और इतना बोल कर मैं खाने बैठ गया मैंने अपनी सीरीज चालू की खाना खाते हुए मैं देख रहा था फिर मैंने नाज़ को बोला: पानी देना।

वो आई और पानी दिया। मैं पेशाब कर हाथ धोने गया और मुख्य रसोई से हाथ साफ करते हुए आ रहा था तभी मैंने देखा नाज़ अभी तक वही थी। मैंने पीछे से जा कर देखा तो टीवी में सेक्स सीन चल रहा था (365 दिन तो सबने देखी होगी) 5 मिनट तक उसके पीछे खड़ा हो कर देख रहा था मैंने आहहुह कारा तो वो एक-दम से डर गई और बोली।

नाज़: सॉरी भैया ये बोलते हुए वो अंदर चली गई मैं: सॉरी क्यों बोल रही हो तुमको अच्छी लग रही है तो आ जाओ साथ में देखते हैं अब मुझे चोदने का मन हो गया था बस मौका देख रहा था नाज़ नहीं भैया मुझे काम है मैं: अरे सुबह से कर रही हो थोड़ी देर के बाद कर देना इतना बोलने के बाद वो मान गई और नीचे की तरफ बैठ गई।

मैं: अरे नीचे क्यों बैठी हो ऊपर आराम से बैठ जाओ ना थोड़ा फोर्स करने के बाद वो ऊपर बैठ गई फिर हम दोनों फिल्म देखने लग गए और मेरा ध्यान बस उसकी गांड पर ही था मैं वैसे अपने बारे में बताओ कुछ नाज़ मैं 30 साल की हूँ 2 बच्चे हैं मेरे और पति एक कंपनी में ड्राइवर है मैं सच में तुम्हारे दो बच्चे हैं तुमको देख कर लगता नहीं है वैसे तो।

नाज़: हा भैया हमारे में 2-3 होते ही हैं मैं: वैसे पति अच्छी कंपनी में है तो अच्छी सैलरी मिलेगी ना फिर ये सब क्यों पता नहीं क्या हुआ नाज़ का मुँह थोड़ा उदास हो गया और वो भैया बोलती हुई अंदर चली गई मैं पीछे गया और पूछूंगा मैं: क्या हुआ? मैंने कुछ गलत बोल दिया जो ऐसे उठ कर यहाँ आ गयी।

नाज़: भैया वो मेरे पति को नशे की इतनी गंदी आदत है और पत्ते भी सारे पैसे वहा उड़ा देते हैं अब घर तो चलना पड़ेगा इसलिए मैं ये सब करती हूं और लोगों से लिए हुए पैसे भी दें मैं: तुम कुछ बोलती नहीं नाज़: भैया वो घर आते हैं खाना खाते हैं और सो जाते हैं कभी-कभी इतना पी कर आते हैं कि बच्चों के सामने ही शुरू हो जाते हैं।

और इतना बोल कर वो रोने लगी मैं: अरे आप रो मत ये लो पानी आप शांत हो जाओ और अगर आपको ज़रूरत है तो मैं पैसे देता हूँ आप बाद में दे देना हां नहीं भी दे पाओगी तो चलेगा नाज़: नहीं भैया आपसे नहीं ले सकती हूँ। मैं मैनेज कर लूंगी फिर वो शांत हुई और हम यहां-वहा की बातें करने लगें इतनी देर में शाम हुई और सब आ गए और हम भी थोड़ा बाहर चले गए।

फिर रात को सबने डिनर किया और अपने-अपने कमरे में चले गए मैं बताना भूल गया कि नाज़ कभी-कभी यहीं रहती थी मेरे कमरे के पास छोटा सा स्टोर रूम था वही जब वो देर हो जाती थी तो उसके परिवार के लोगों को मालूम था और उसके बच्चों का वो ध्यान रखते थे।

अब मुख्य कमरे में आया और मेरे दिमाग में बस नाज़ ही चल रही थी तो मैंने जल्दी से अपने कपड़े निकाले और उसके बारे में सोचते हुए लंड हिलाने लगा मैं जल्दी-जल्दी भूल गया कि गेट बंद नहीं किया मैं मस्त उसको सोचता हुआ लंड हिला रहा था मेरी आंखें बंद थीं और मुझे ऐसा लगा कि कोई खड़ा था और देख रहा था।

आपको भी कभी लगा होगा ना आंखें बंद हो और कोई पास में हो या खड़ा हो मैंने जैसा ही देखा मैं शॉक हो गया नाज़ थी सामने फिर मैं जल्दी से उठा और शॉर्ट्स पहनने लगा बहार आया तब तक वो चली गई थी मैं उसके कमरे की तरफ गया और गेट खटखटाया फिर वो आई और बोली।

नाज़: हा भैया बोलो मैं: मुझे सचमुच बहुत खेद है मुझे पता नहीं था कि गेट पर ताला नहीं था नाज़: भैया आप क्यों सॉरी बोल रहे हो मुझे आपको सॉरी बोलना चाहिए मैं बिना बोले या गेट नॉक किये हुए आ गयी मैं सुनो प्लीज ये बात किसी को मत बताना आप चाहो तो ये पैसे रख लो नाज़ भैया नहीं बोलूंगी मैं किसी को मैं समझ सकती हूं आपकी भावनाएं और आपके पास रखिए पैसे।

फिर में सीधा अपने कमरे में आ गया कुछ देर बाद गेट नॉक हुआ मैने खोला तो नाज़ थी मैं: हां बोलो नाज़ क्या हुआ? अंदर आ जाओ फ़िर वो अन्दर आई और बैठी नाज़: भैया वो ना वो मैं: अरे क्या हुआ मैंने सॉरी बोल तो दिया नाज़: नहीं भैया हम आप से एक बात बोलने आये हैं अगर आप बुरा न मानें तो किसी को नहीं बताएं।

मैं: हा बोलो नाज़: भैया आप सच में मेरी मदद कर सकते हैं क्या मुझे किसी को पैसे देने हैं 15000 वो बहुत परेशान कर रहा है कॉल पर कॉल कर रहा है गंदी बातें कर रहा है इसके बदले आप जो बोलोगे करुंगी मैं: हा जरूर ये बोलते हुए मैंने अपने वॉलेट से पैसे निकाल कर दिए और बोला: एक बात पूछू।

नाज़: हा भैया पूछो मैं: एक तो भैया बोलना बंद करो मुझे साहिल बोलो और तुम्हारा पति किस्मत वाला है जो इतनी खूबसूरत और अच्छी बीवी मिली है उसको नाज़: नहीं भैया उनको हमसे अब कोई मतलब नहीं वो नशे में ही रहते हैं ध्यान नहीं देते बिल्कुल मैं: तुम्हारा फिगर कितना मस्त है और बुर्के में तुम काफी अच्छी लगती हो।

नाज़ धन्यवाद वैसे आप भी अच्छे दिखते हो इतने हैंडसम हो बॉडी भी अच्छी है और अभी जो देखा वो भी नाज़ के मुँह से ये बात सुन कर थोड़ा मैं खुश भी हुआ और शॉक भी नाज़: आपकी तो गर्लफ्रेंड किस्मत वाली होगी मैं: नहीं है कोई गर्लफ्रेंड तभी तो तुमको याद करते हुए हिला रहा था नाज़: क्या मैं अरे कुछ नहीं (ये बोलते हुए सॉरी बोला)।

नाज़: बोलो-बोलो आपने इतनी मदद की हमारी हम किसी से नहीं बोलेंगे मैं: जब सुबह देखा आपको पागल सा हो गया था मैं इतना मस्त फिगर और सब नाज़ (शर्माते रंगे): धन्यवाद आप से एक बात पूछे आप किसी को नहीं बताओ तो मैं: हा बोलो नाज़: हमने आज तक इतना गोरा और लंबा किसी का नहीं देखा और पूरी त्वचा का मैं: तुम्हारे पति का नहीं देखती हो और तुम पूरी त्वचा का मतलब।

नाज़: हमारे में आगे से स्किन कट करवाते हैं और शादी के कुछ टाइम तक वो करते थे लेकिन नशे में इतना रहते थे कि जल्दी निकल जाता था या कर नहीं पाते थे और हमने कभी नहीं देखा मैं उसके मुँह से ये सब सुन कर शॉक हुआ और मेरा लंड हार्ड हुआ फ़िर मैं उठा और उसके पास गया मैं: देखना चाहोगी तुम इसको महसूस करना चाहती हो।

नाज़ ने नीचे मुँह कर दिया और कुछ बोली नहीं मैं समझ गया कि ये देखना चाहती थी मैंने उसी टाइम अपना शॉर्ट्स निकाल दिया नाज़ अरे रुको-रुको क्या कर रहे हो हम मज़ाक कर रहे थे वापस पहनो और वो जाने लगी मैंने हिम्मत करके उसको पकड़ कर किस करना शुरू कर दिया वो रोकने का प्रयास कर रही थी लेकिन मैं नहीं रुका फिर वो शांत हो गई और मेरा साथ देने लगी।

मैं नाज़ को गर्दन पर किस करने लगा और उसके स्तन दबाने लगा। इसे वो गरम हो गई मैं उसकी गांड के बीच अपना लंड घुमाने लगा फिर मैंने नाज़ को उठाया और सीधा बिस्तर पर लिटा कर उसके ऊपर आ गया और उसको किस करना शुरू कर दिया।

कामवाली को रंडी की तरह चोदा

पारुल संग बुझाई अपने लंड की गर्मी-Hindi Sex Story

नाज़ धीरे-धीरे आवाज़ में हम्म आह करने लगी और मैं उसके स्तन दबाते हुए उसे किस कर रहा था पगलों के जैसे। इतने में नाज़ बोली नाज़: आह आराम से करो ना कहीं नहीं जा रही मैं मैं अब रहा नहीं जा रहा मुझसे और बोलते हुए उसको उल्टा करके उसकी गांड को अच्छे से दबाते हुए मैंने उसका बुरखा ऊपर किया।

क्या मस्त गांड लग रही थी उसने लाल रंग की अंडरवियर पहनी थी और मैं अपना लंड उसकी गांड पर घुमा रहा था नाज़: आह बहुत मजा आ रहा है आज तक ऐसा मजा मुझे कभी पहले नहीं आया। और अच्छे से दबाओ मैंने ज्यादा ना सोचते हुए सीधे उसकी अंडरवियर निकाली और अपने हाथ से पीछे से उसकी चूत को सहलाने लगा।

क्या मजा आ रहा था नाज़ उल्टी लेती हुई थी और उसका चेहरा नीचे था और दोनो हाथों से बेडशीट को पकड़ कर आवाज निकालने लगी नाज़: आह्ह आह्ह बहुत अच्छा लग रहा है मैं पीछे उसके ऊपर ही था और अपने हाथ से अपना लंड सहला रहा था उसकी चूत के ऊपर फिर एक ही बार में मैंने अपना लंड उसकी चूत में डाल दिया।

नाज़ जब तक सोचती तब तक मैंने अपना लंड डाल दिया था। वो इतना ज़ोर से चिल्लाई नाज़: आअहह प्लीज़ निकालो इसको प्लीज़ निकालो। बहुत दर्द हो रहा है मैंने उसकी एक ना सुनी और धीरे-धीरे अंदर-बाहर करने लगा करीब 10 मिनट तक उसको ऐसे चोदने के बाद मैंने उसको सीधा किया और उसको किस करने लगा।

उसकी आँखों में आसू थे दर्द के मारे फिर मैंने नीचे जा कर उसके बराबर खोला और चूत को चाटने लगा नाज़ थोड़ा शॉक हो गई और बोली: ये आप क्या कर रहे हो आह बहुत मजा आ रहा है ये करते हुए उसने मेरे बाल पकड़ लिया और खुद अपनी चूत ऊपर करते हुए चटवा रही थी मैंने करीब 5 मिनट तक उसकी चूत चाटी।

फिर मुख्य बिस्तर की साइड में खड़ा हुआ और उसके दोनों जोड़े अपने कंधे पर रखें और चूत में लंड सेट करते हुए एक ही बार में डाल दिया नाज़ दोनो हाथों से बेडशीट को पकड़े हुए चिल्ला रही थी नाज़: आआहह आराम से करो यार बहुत दर्द हो रहा है आह प्लीज रुक जाओ यार प्लीज आआअहह प्लीज़ रुक जाओ बहुत दर्द हो रहा है।

मैं उसकी एक भी नहीं सुन रहा था स्पीड बढ़ते हुए मैं उसको किस करने लग गया ताकी वो ज्यादा नहीं चिल्लाए और कोई सुन ना ले करीब 7-8 मिनट तक ऐसे ही चोदने के बाद मैंने अपना लंड निकला बाहर और साइड में टेबल पर रखा पानी पी रहा था। नाज़ अभी भी वैसे ही लेती थी मेन्स जल्दबाजी हुए उसको देखा।

नाज़: अल्लाह कसम आज तक मेरी चुदाई इस तारीख़ की नहीं हुई थोड़ा हमारे बारे में सोचो इतना बड़ा लंड हमने आज तक नहीं लिया और तुमने एक बार में डाल दिया ये बोल कर वो खड़ी हुई उससे सही से खड़ा भी नहीं हुआ जा रहा था मैंने उसकी मदद की और पानी दिया और बिस्तर पर बैठ गया मैं सीधा बिस्तर पर जा कर बैठा और अपना लंड हिलाते उसको देख रहा था।

नाज़: क्या देख रहे हो मैं: यार तुम पहले क्यों नहीं मिली क्या मस्त फिगर और क्या मस्त चूत है तुम्हारी आज तो तुमको पूरी रात चोदूंगा आह और तुम्हारी गांड देख कर मरने का मन हो रहा है नाज़: अरे चुप एक तो बिना बोले एक-दम से इतना लंबा मोटा लंड डाल दिया कपडे खोलने का इंतजार नहीं किया और पूरा दाल दिया चलने लायक तो रखोगे।

फिर मैंने उसको अपनी और खींचा और बोला: चलो जल्दी से नंगी हो जाओ नाज़ मेरी बात सुन कर हँसने लगी और अपना बुरखा निकला और अपनी ब्रा निकल कर मेरे मुँह पर मारी फिर वो बोली: आज तूने मेरी आग जगाई है देखते है कितना दम है तेरे इस लंड में और ऐसा बोलते हुए लंड हाथो में लेकर देखने लगी नाज़: याह अल्लाह क्या लंड है तेरा कसम खुदा की आज तक हमने सुना था पर आज पहली बार देख रहे हैं।

और ऐसा बोल कर आइसक्रीम को जैसी चाट-ते है वो वैसे मेरे लंड की त्वचा चाटने लगी फिर धीरे-धीरे पूरा मुँह में ले लिया मेरा लंड वो लंड ऐसे लेने लगी जैसे की कोई भूखी रंडी होती है ना जो लंड देख कर पागल हो जाती है वैसे पूरा चुनने लगी मैंने उसको बिस्तर पर लिटाया और उसके ऊपर आ गया।

फिर उसके स्तन के बीच में डाल कर अपना लंड हिलाने लगा मैंने उसके बाल अपने हाथों में पकड़े और उसका मुँह खोल कर अपना लंड उसके मुँह में डाला फ़िर उसके बाल पकड़ कर जैसी चूत हो वैसे चोदने लगा 2 मिनट के बाद उसने मेरा हाथ पकड़ा और हनफ्ने लगी।

नाज़: ये क्या कर रहे हो यार? मुँह है हमारा चूत नहीं है जो मुँह पकड़ कर डाले जा रहे हो उसका पूरा चेहरा लाल हो गया था और आंखों में आंसू थे फिर मैं थोड़ा आगे आया और अपनी गेंदें चुसवाने लगा और अपनी गांड का छेद आगे किया नाज़: हम ये नहीं चाटेंगे हमने कभी नहीं किया है मैं: एक बार चाटो मजा आएगा।

थोड़ा उसको फोर्स करने के बाद उसने अपनी जीभ निकाली और जैसी ही गांड के छेद पर लगी मेरी आवाज निकल गई मेरी आंखें बंद हो गई और नाज़ एक हाथ से मेरा लंड हिलते हुए चटने लगी पूरी गांड गीली कर दी उसने फिर मैं उठा और उसको खड़ा किया मैंने मैंने एक जोड़ी उसका बिस्तर पर रखा और अपने लंड से उसकी चूत पर रगड़ते हुए उसे चूमने जा रहा था।

फिर धीरे-धीरे मैंने डालना शुरू किया नाज़ धीरे-धीरे आवाज़ करते हुए मुझे यहाँ वहाँ किस करने लगी फिर मैंने उसको बिस्तर की साइड में सुलाया और उसकी जोड़ी अपने कंधे पर रख दी नाज़: प्लीज धीरे-धीरे करो मैं कई महीनों से नहीं चुदी हूं इसलिए मेरी चूत टाइट है और तुम्हारा काफी बड़ा है इसलिए एक-दम से नहीं ले पाऊंगी।

मैं: हां मेरी जान आराम से ही करूंगा और अपना लंड उसकी चूत पर रगड़ते हुए आगे का टोपा डाला फिर निकला फिर डाला फिर निकला नाज़: प्लीज़ ऐसा मत करो। डालो ना यार अब नहीं रह रहा तुम्हारे लंड का स्वाद हमने और हमारी चूत ने ले लिया है तो अब हमको तड़पाओ मत और डाल दो।

मैं जल्दबाजी में बोला: जान तेरी जैसी सेक्सी लड़की को तड़पा-तड़पा कर ही चोदने का मजा आता है दूसरी बार खुद आओगी चुदवाने और ऐसे बोलते हुए मैंने धीरे-धीरे अपना लंड डालना शुरू किया नाज़ धीरे-धीरे आवाज़ शुरू हुई मैं धीरे-धीरे उसकी जोड़ी पकड़ कर अपनी स्पीड बढ़ानी शुरू करता हूं एक-दम से चोदने लगा।

नाज़: आअहह धीरे-धीरे करो आह्ह काफ़ी मज़ा आ रहा है जान और चोदो और चोदो मुझे अपनी रांड बना लो बस ये सुन कर मुझे और मजा आया मैंने उसकी जोड़ी नीचे की और उसको बगीचे से पकड़ा और लम्बे-लम्बे शॉट मारने लगा पूरा बिस्तर हिल रहा था और नाज़ की हालत ख़राब हो रही थी मैं थोड़ा रुका और जल्दबाजी में उसको किस किया और बोला।

मैं: देखना है इस लंड का दम हो गया नाज़: आआह तुम सच में सच्चे मर्द हो जान तुमने एक ही झटके में हमारी चूत को पूरा खोल दिया ऐसी चुदाई हमने कभी सोची नहीं थी आह अल्लाह बहुत दर्द हो रहा है और मज़ा भी आ रहा है मैं: तो वापस से चालू करूँ मैं।

नाज़ बिना कुछ बोले अपना मुँह नीचे करते हुए हा बोली और मैं उसको उसकी पोजीशन में फास्ट-फास्ट चोदने लगा करीब 10 मिनट के बाद मैंने उसको घोड़ी बनाया और अपना लंड डाल कर उसको चोदने लगा उसके बाल पकड़ कर जैसा कोई रंडी होती है वैसे चोदने लगा 15 मिनट तक उसको घोड़ी बना कर चोद रहा था और पूरे कमरे में हमारी चुदाई की आवाज आ रही थी।

इसी बीच मैंने नाज़ की गांड को मार-मार कर पूरा लाल कर दिया था नाज़: तुमने दवा ली है क्या इतना फास्ट-फास्ट कब से चोद रहे हो तुम्हारा माल निकल ही नहीं रहा (मैं बताना भूल गया नाज़ का 2 बार पानी निकल गया था) मैं: जान मुझे उसकी ज़रूरत नहीं पड़ती।

और मैंने उसको किस करते हुए अपने भगवान में उठाया फ़िर मैं नाज़ को दीवार का सहारा लेते हुए चोदने लगा ऐसे ही खड़े-खड़े छोटे हुए मुझे 5 मिनट हो गए थे और मेरा निकलने वाला था तो मैंने उसको बिस्तर पर लिटाया और उसके ऊपर आ कर चोदने लगा स्पीड से।

कामवाली को रंडी की तरह चोदा

चाची की सहेली की चूत फाड़ी-Hindi Desi Chudai

फिर मैंने नाज़ से बोला: मेरा होने वाला है नाज़: आआअहह और ज़ोर से चोदो आह मजा आ रहा है बस ऐसे ही चोदते रहो और उसने मुझे पकड़ लिया था करीब 45-50 मिनट हो गए थे और अब मेरा होने वाला था मैंने नाज़ को नीचे बिठाया और उसके मुँह में अपना लंड दिया और चूसवा रहा था उसको नहीं मालूम था मेरा होने वाला था और मैंने सारा माल उसके मुँह में निकाल दिया।

नाज़ पूरा हो गया और फिर मेरा लंड चाट कर पूरा साफ किया मैं सीधा बिस्टर पर लेट गया नाज़ अपना मुँह साफ करके सीधा मेरे ऊपर आ गई और किस करते हुए बोली नाज़: यार पहली बार किसी ने मेरा पानी निकाला और इतना गंदा चोदा होगा फ़िर वो अपनी चूत को देखते हुए बोली: ये देखो कैसी लाल हो रही है।

और वो साइड में लेट गई और मैं उसको देखते हुए यहां वाहा की बातें करने लगा फ़िर मेरा लंड वापस खड़ा हो गया नाज़: अरे तुम इतना जल्दी जाग भी गए मैं: इतनी सेक्सी रंडी पास में हो तो क्यों नहीं होगा आज तो ना ही ये सोयेगा ना तुमको सोने देगा और ऐसा बोल कर मैं उसके ऊपर आ गया।

तो दोस्तों कैसी लगी अब तक की कहानी ये पूरी रियल स्टोरी है जो हुआ वही मैंने बताया है कोई मन से नहीं बना कर बोला।

By tharki

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *